पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

16 करोड़ रुपये की सुइ की आवश्यकता:सीवान में डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी जैसी दुर्लभ बीमारी से ग्रसित है आयुष

सीवान7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शास्त्री नगर के प्रदीप कुमार व मधु देवी का 10 वर्षीय पुत्र आयुष गुप्ता एक गंभीर बीमारी से ग्रसित है, प्रदीप कुमार की माने तो चिकित्सकों ने इस बीमारी का नाम डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी जैसी दुर्लभ बीमारी बताया है। बताते हैं कि डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी बीमारी का कोई इलाज नहीं है। नेट पर सर्च करने के दौरान पता चला कि 2019 में एक सूई का अविष्कार किया गया। पिता के अनुसार जोलगेंसमा जीन थेरेपी का सिंगल डोज उनके बच्चे की जान बचा सकती है। एक सूई की कीमत 16 करोड़ रुपये बताई जा रही है। यह मामला सामने आने के बाद से शास्त्री नगर के प्रदीप कुमार व मधु देवी की हालत इन दिनों बस ऐसी ही हो चली है जहां उनसे न जीते बन रहा है न मरते ही। डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी जैसी दुर्लभ बीमारी से पीड़ित इकलौते बेटे आयुष गुप्ता की दिन ब दिन बिगड़ती हालत से पति-पत्नी परेशान व चिंतित हैं। शहर के रजिस्ट्री कचहरी मोड़ के समीप फोटो स्टेट की दुकान चला परिवार का भरण पोषण करने वाले प्रदीप कुमार अब सही से बच्चे का इलाज करा पाने में सक्षम नहीं हैं। मेरे पास करोड़ की कौन कहे लाख रुपये भी जुटा पाना मुश्किल है। चिकित्सकों का कहना है कि एक डोज सूई पड़ने के बाद 40 हफ्ते में शरीर मेंटेंन करने लगेगा। प्रदीप ने बताया कि साढ़े चार साल का जब आयुष था तब वह डूशेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की चपेट में आ गया। पहले पैर से चलना बंद हुआ अब हाथ भी काम करना बंद कर दिया है।

खबरें और भी हैं...