छठ घाटों का किया निरीक्षण:सिसवन में दो घाट खतरनाक होने से अर्घ्य देने पर रोक, हो रही बैरिकेडिंग

सीवानएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छठ घाट का निरीक्षण करते एसडीओ और एसडीपीओ। - Dainik Bhaskar
छठ घाट का निरीक्षण करते एसडीओ और एसडीपीओ।
  • सिसवन और रघुनाथपुर में सरयू नदी के विभिन्न घाटों का किया गया निरीक्षण
  • सुरक्षा के लिए नाव व गोताखोरों की होगी तैनाती, एसडीओ और एसडीपीओ के नेतृत्व में छठ घाटों का हुआ निरीक्षण

जिले के सरयू नदी के विभिन्न तटों पर लोक आस्था का महापर्व छठ व्रत मनाया जाता है। सरयू नदी के घाटों पर बड़ी संख्या में व्रती अस्ताचलगामी और उदीयमान सूर्य को अर्घ देते है। सरयू नदी में पिछले साल के अपेक्षा इस साल जलस्तर ज्यादा है। इस वजह से व्रतियों को किसी भी तरह की असुविधा न हो इसलिए प्रशासनिक स्तर पर चौकसी बरती जा रही है। सदर अनुमंडल पदाधिकारी रामबाबू बैठा और एसडीपीओ जीतेद्र पांडेय के द्वारा घाटों का जायजा लिया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान सिसवन में सरयू नदी के दो घाट खतरनाक पाया गया है। जहां पर प्रशासन ने निर्णय लिया है कि वहां पर छठ व्रत नहीं मनाया जायेगा। इसलिए इन दाे घाटों सिसवन महादेव शिवघाट सहित अन्य पर व्रत करने से रोक लगा दी गई है। प्रशासन द्वारा यहां के व्रतियों के लिए दूसरे घाट पर व्यवस्था की जा रही है। व्रतियों से अपील की जा रही है कि वे घाटों के खतरनाक होने के वजह से घर में भी छठ व्रत मना सकते है।

प्रशासन ने लोगों से की अपील, कहा- घरों पर ही करें छठ पर्व

बताते चले कि सदर एसडीओ व एसडीपीओ ने शनिवार को प्रखंडस्तरीय अधिकारियों के साथ सिसवन प्रखंड के जई छपरा, साईपुर, निरखापुर, ग्यासपुर, सिसवन महादेव छठघाट, रघुनाथपुर प्रखंड के नरहन सहित अन्य घाटों का निरीक्षण किया है। उन्होंने स्थानीय अधिकारियों को निर्देश दिया है कि घाटों का सुरक्षा के दृष्टिकोण से बैरिकेडिंग कराया जाए और छठ पर्व के दिन नाव के साथ गोताखोर की तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना अनिवार्य है। सभी को कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए मास्क भी लगाना होगा। उन्होंने कहा कि लोगों से अपील किया जाए कि अपने घरों पर ही छठ पर्व करें। उन्होंने कहा कि घाटों पर निजी नावों के परिचालन बंद रहेगा।

दाहा नदी स्थित पुलवा छठघाट पर किया जा रहा बैरिकेडिंग
छठ महापर्व को देखते हुए नगर परिषद ने पुलवा छठघाट, शिवव्रत साह छठ घाट और अग्रवाल छठघाट के साफ-सफाई को लेकर मजदूर लगाया है। इसके अलावा दलदल वाले स्थानों पर मिट्‌टी गिराया जा रहा है ताकि छठव्रतियों को किसी तरह की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। शनिवार से दाहा नदी स्थित पुलवा छठघाट पर बांस बल्ला के माध्यम से बैरिकेडिंग का कार्य भी शुरू करा दिया गया है। जो एक से दो दिनों में पूरा करा लिया जायेगा। बैरिकेडिंग होने से छठव्रति अधिक पानी में नहीं जायेगी। चल रहे सफाई कार्य का जायजा लगातार नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी राहुल धर दूबे ले रहे है। उन्होंने इसको लेकर अलग-अलग कर्मियों को जवाब देही दी है। वहीं गांधी मैदान स्थित पोखरा के सफाई के लिए भी मजदूर लगाए गये है।

खबरें और भी हैं...