पूजा-पाठ:कल्याण की नवरात्रि का पाठ शुरू, सुख समृद्धि की कामना के लिए होगी देवी पूजा

सीवान9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कलशयात्रा और मां शैलपुत्री की पूजा के नवरात्र शुरू, सुबह से देर शाम तक मंदिरों में रही भीड़, घरों में भी कलशस्थापन
  • माता रानी के जयकारों से गूंजा वातावरण
  • काली माता मंदिर, दुर्गा मंदिर, बुढ़िया माई मंदिर, राधे कृष्ण मंदिर में दशहरा को लेकर की गयी खास व्यवस्था

नवरात्र के पहले दिन शहर के मंदिरों में मातारानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की कतारें लगी रहीं। विधि-विधान से मां शैलपुत्री की पूजा-अर्चना की गई। साथ ही लोगों ने घरों और मंदिरों में कलश स्थापना की। घरों में शुभ मुहूर्त में कलश स्थापना की गई। मंदिर में माता रानी के जयकारों से गूंज उठा था। श्रद्धालुओं ने व्रत रखकर भगवती के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री से सुख समृद्धि की कामना भी की। गुरुवार को सुबह से ही घर-घर मां की पूजा की तैयारियां शुरू हो गयीं थी। भक्तों ने अपने घरों में कलश स्थापित कर दुर्गा सप्तशती का पाठ किया। शहर के रजिस्ट्री कचहरी रोड स्थित काली माता मन्दिर, दुर्गा मंदिर, बुढ़िया माई मंदिर, राधे कृष्ण मंदिर समेत सभी मंदिरों के बाहर श्रद्धालुओं ने जी भर मां के दर्शन किए। सुख समृद्धि के लिए
कामना की।
मंदिर व घरों में हुई कलश स्थापना
शहरों में श्रृद्धालु माता रानी के दर्शन और पूजा-अर्चना के लिए सुबह से ही लगे हुए थे। मान्यता है कि जो भी नौ दिनों तक व्रत रखता हैं सच्चे मन से मांगने पर भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। आचार्य उपेंद्र पांडेय ने बताया कि श्रद्धा के अनुसार पूजा पाठ सभी को करना चाहिए। यह परंपरा 250 वर्ष पुराना है। वही घरों में भी कलश स्थापना की गई। देर सुबह से ही पूरा क्षेत्र भक्तिमय हो गया। चारो तरफ जय माता दी जय माता दी के नारों से गूंज उठा था।

शारदीय नवरात्र:या सर्वभूतेषु.. से गूंज उठा दरौंदा

दरौंदा| शारदीय नवरात्र की प्रथम दिन गुरुवार को धूम मची हुई है। ‘या देवी सर्वभूतेषु, शक्ति रूपेन संस्थिता’ के मंत्रोच्चार से गांव-शहर गूंज उठा है। घरों और मंदिरों में पूजा-अर्चना के साथ माता के भजन भी गूंज रहे हैं। मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगनी शुरू हो जाती है। गुरुवार को मां प्रथम शैलपुत्री देवी की पूजा अर्चना की गयी। प्रखंड मुख्यालय स्थित गोला बाजार,मेन रोड,जिलेबिया गली,बगौरा,भीखाबांध, हड़सर, लीला साह के पोखरा, शेरपुर सहित विभिन्न गांवों में मां दुर्गा की नवशक्तियों का प्रथम शैलपुत्री की पूजा भक्तों ने की। शैलपुत्री देवी का स्वरूप ज्योतिर्मय एवं अत्यंत भव्य है। माता के दाहिने हाथ में जप की माला एवं बायें हाथ में कमंडल रहता है। मां दुर्गा का यह स्वरूप भक्तों को अनंत फल देने वाला है।

काली मंदिर में कलश स्थापना को लेकर निकली कलशयात्रा

सिसवन| प्रखंड क्षेत्र के भीखपुर में गुरुवार की सुबह मां काली मंदिर में नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना को लेकर भक्त सुरेंद्र यादव के नेतृत्व में करीब 501 कुमारी कन्याओं द्वारा कलश यात्रा निकाला गया। काली मंदिर स्थान से कलश यात्रा निकालकर दाहा नदी के तट पर पहुंचे। जल भराई के बाद जय मां काली के उद्घोष करते हुए श्रद्धालु कलश लेकर काली मंदिर भीखपुर में पहुंचे व पूजा अर्चना की । सुरेंद्र यादव ने बताया कि दशहरे के 9 दिनों तक गांव के सुख शांति व समृद्धि के लिए मां काली का कलश स्थापना किया गया है। इस दौरान चंदन यादव लाल बाबू यादव रूपेश कुमार विवेक कुमार सहित दर्जनों आयोजकों ने भाग लिया।

भगवानपुर में श्रद्धालुओं ने की जलभरी

भगवानपुर हाट| मंत्रोचार के साथ शरदीय नवरात्र के भक्ति में डूबा प्रखंड।प्रखंड क्षेत्र के अलग अलग पूजा पंडालों व पूजा स्थानों पर दुर्गा पूजा के अवसर पर कलश स्थापना हेतु कलश यात्रा निकाली गई।कलश यात्रा भगवनपुर पुराना बाजार से निकल कर रामपुर स्थित स्वामी जग्गनाथ दास के मठिया स्थित तलाब से जल भड़ी कर पुनः पूजा पंडाल पहुंची। बाजे गाजे के साथ लोग अपने माथे पर कलश लिए हुए थे।जबकि दूसरी कलश यात्रा चक्रबृद्धि पूजा पंडाल से निकल कर जग्गनाथ दास के मठिया स्थित तलाब से जलभरी कर पुनः पूजा पंडाल पहुचा।बिथुना गांव में स्थित मां बिठुन देवी परिसर में कलस स्थापना के समय कलस यात्रा निकाला गया।कलश यात्रा में बड़ी संख्या में स्त्री पुरुष शामिल रहे।जिसमे ब्रिज किशोर प्रसाद,गुड्डू शर्मा,जेपी गुप्ता,अभिषेक गुप्ता,दीपक सिंह,मुकेश चौधरी, सीटू पटवा, शुभम कुमार आदि शामिल रहे।

महेंद्रनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं ने किया जलाभिषेक, समृद्धि की कामना

सिसवन| शारदीय नवरात्रि के पहले दिन गुरुवार को जिले के विभिन्न देवी मंदिरों व शिवलयों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। सिसवन प्रखंड के महेंद्रनाथ मंदिर, गुठनी प्रखंड के सोहगरा शिव मंदिर, सीवान शहर के महादेवा शिव मंदिरों समेत अन्य शिवालयों में गुरुवार की अहले सुबह से लेकर शाम तक पूजा अर्चना होती रही। शहर के मखदुम सराय महावीरी स्कूल के पास शिव मंदिर में भी श्रद्धालुओं की भीड़ रही। सिसवन प्रखंड के प्रखंड के मेहंदार स्थित महेंद्रनाथ मंदिर में गुरुवार को लोगों ने उत्साह के साथ पूजा अर्चना की। बुधवार की रात से ही जमे शिव भक्त सुबह होते ही कमलदह सरोवर में स्नान कर भगवान भास्कर को जलार्पण कर जलपात्र में जल पुष्प, धतूरा, अक्षत, कुमकुम आदि पूजन सामग्री लेकर कतारबद्ध होकर महेंद्रनाथ मंदिर में दाखिल हो गए व भोलेनाथ को जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की व मन्नते मांगी। तब बारी-बारी से मां पार्वती, रामजानकी वटुक भैरव हनुमान की पूजा की। मंदिर के प्रधान पुजारी तारकेश्वर उपाध्याय ने बताया कि करीब 20 हजार शिव भक्तों ने भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना की। महेंद्र नाथ मंदिर के अलावा चैनपुर, रामगढ़, चैनपुर, बखरी, ग्यासपुर आदि शिवालयों व देवी स्थानों पर काली मां व भगवान शिव की पूजा अर्चना करने के लिए मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही। हर-हर महादेव व जय माता दी की गूंज चारों ओर सुनाई दे रही थी। भक्तों ने मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना की।

खबरें और भी हैं...