सख्ती:15 जनवरी तक जीवन प्रमाणीकरण नहीं कराने पर रोक दी जाएगी पेंशन

हसनपुरा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सामाजिक सुरक्षा पेंशन से जुड़े 60 वर्ष से अधिक के लाभुकों को मौका

सामाजिक सुरक्षा पेंशन से जुड़े 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के जीवन प्रमाणीकरण को लेकर 15 जनवरी तक समय सीमा तो अवश्य बढ़ा दी गई है, लेकिन समस्याएं कम होने का नाम नहीं ले रही है। दरअसल बुजुर्ग लोगो के हाथ की उंगली की रेखाओं को बायोमैट्रिक सिस्टम रिड नहीं कर पा रहा और इसी वजह से उनका सत्यापन कार्य नहीं हो पा रहा है। बताया जाता है कि बुजुर्गों के आधार कार्ड बनवाने में भी उंगली की रेखाओं को बायोमेट्रिक सिस्टम द्वारा नहीं पढ़ पाने की समस्या आड़े आते रही है। मिली जानकारी के मुताबिक ऐसे लोगों की संख्या क्षेत्र में काफी है और अबतक निर्धारित लक्ष्य से कम लोगों का ही जीवन प्रमाणीकरण सत्यापन का कार्य पूरा हो पाया है। प्रखंड क्षेत्र में करीब 9500 पेंशनर है। जहां अभी तक मात्र 3500 पेंशनर का जीवन प्रमाणीकरण हुआ है। ऐसे में जिन लोगों के सत्यापन का कार्य पूरा नही हो पाया है, उन्हें यह डर समा रहा है कि कही उनका पेंशन बंद ना हो जाए। स्थानीय समाजसेवियों ने प्रशासन और सरकार से मांग किया है कि जिन बूढ़े-बुजुर्गों की चुकी बायोमैट्रिक से प्रमाणित नही हो पा रही है, उनके लिए कोई नया विकल्प तलाश कर उन्हें मिलने वाली सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लाभ से वंचित ना किया जाए। ताकि इन गरीब-गुरबों को परेशानी नही हो। प्रखंड विकास पदाधिकारी राजेश्वर राम ने बताया कि पेंशनधारियों को भुगतान जारी रखने के उद्देश्य से 15 जनवरी 2022 तक जीवन प्रमाणीकरण के लिए एक अवसर दिया गया है। यह अंतिम मौका है। साथ ही उन्होंने कहा है कि अगर किसी पेंशनधारियों का उंगली की रेखाओं को बायोमैट्रिक सिस्टम द्वारा नही पढ़ा जा रहा है तो वह प्रखंड मुख्यालय स्थित आरटीपीएस काउंटर से आंख की रैटिना से बायोमेट्रिक किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...