होगी कार्रवाई:टीकाकरण में रुचि नहीं लेने पर 6 प्रभारी चिकित्सकों से शो-कॉज

सीवानएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकारी दायित्व का निर्वहन नहीं करने का लगाया गया आरोप, छह प्रभारी चिकित्सकों पर होगी कार्रवाई
  • 24 घंटे में देना होगा जवाब, नहीं मिलने पर विभाग को लिखा जाएगा पत्र

कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण को लेकर विभाग पूरी तरह से अलर्ट है। हर हाल में वंचित सभी लोगों का टीकाकरण कराने के लिए तेजी से कार्य किया जा रहा है। इसके लिए जिला स्तर से लेकर राज्य स्तर पर मॉनिटरिंग की जा रही है। ताकि रोज अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण कराया जा सके। इधर टीकाकरण कार्य में रूचि नहीं लेने वाले 6 प्रखंडों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी तथा प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक पर सिविल सर्जन डॉ. यदुवंश कुमार शर्मा ने शो कॉज किया है। इस इसमे सिसवन, हुसैनगंज, नौतन, रघुनाथपुर, लकड़ी नबीगंज तथा दरौंदा प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी तथा स्वास्थ्य प्रबंधक शामिल है। इन सभी छह प्रखंडों में शुक्रवार को टीकाकरण काफी कम किया गया है। समीक्षा के क्रम में यह बात सामने आई है कि इन प्रखंडों में टीकाकरण कम है। इस पर स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान समीक्षा की। जिसमें इन छह प्रखंडों का जिक्र करते हुए बताया गया कि इस प्रखंडों में काफी कम टीकाकरण हुई है। समीक्षा के बाद सिविल सर्जन ने कहा है कि इससे प्रतीत होता है कि सरकारी दायित्व का निर्वहन में रुचि नहीं लिया जा रहा है। साथ ही इन सभी छह प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों पर यह भी आरोप लगाया गया है कि इनके द्वारा टीकाकरण को लेकर प्लानिंग ठीक से नहीं की गई है।

घर आए सभी लोगों की जांच कराने का निर्देश
इधर सिविल सर्जन ने जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया है कि केरल तथा महाराष्ट्र में पॉजिटिव केस बड़े हैं। इसलिए वहां से आने वाले लोगों की जांच हर हाल में कर लिया टेस्ट का टारगेट उपलब्धि में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। साथ ही बाहर से गांव आने वाले लोगों को एएनएम लक्षित कर टेस्ट एवं टीकाकरण के लिए खोज करेगी।

टीकाकरण नहीं कराने वाले सरकारी योजनाओं से होंगे वंचित
सिविल सर्जन ने यह भी कहा है कि अगर जानबूझकर कोई टीकाकरण नहीं कराता है तो उन्हें नियमित टीकाकरण राशन एवं अन्य सरकारी सुविधाओं से भी वंचित किया जा सकता है। इसलिए सभी लोगों को हर हाल में टीकाकरण कराना है। इधर टीकाकरण के लिए डेढ़ लाख लक्ष्य रखा गया है। जबकि जिले में तीन लाख से ज्यादा वैक्सीन उपलब्ध है। टीकाकरण अभियान को लेकर प्रशासनिक स्तर पर भी नजर रखी जा रही है, ताकि टीकाकरण का लक्ष्य पूरा हो सके। सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को महा अभियान के दौरान हर हाल में लक्ष्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

खबरें और भी हैं...