कभी बोरे पर बैठ की पढ़ाई, अब इंदौर के कमिश्नर:रेलवे में रहते हुए क्रेक की UPSC, सरकारी स्कूल से पूरी की थी प्रारंभिक शिक्षा

सीवान7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीवान निवासी हरिनारायण मिश्र बनें इंदौर के पहले कमिश्नर। - Dainik Bhaskar
सीवान निवासी हरिनारायण मिश्र बनें इंदौर के पहले कमिश्नर।

बिहार के सीवान जिला निवासी IPS अधिकारी हरिनारायण चारी मिश्र इंदौर के कमिश्नर बनाए गए हैं। मध्यप्रदेश में 40 सालों के बाद पुलिस प्रणाली में कमिश्नरी सिस्टम की शुरुआत हुई है। IPS अधिकारी हरिनारायण चारी मिश्र को इंदौर और मरकंद देउस्कर को भोपाल का कमिश्नर बनाया गया है। इंदौर के कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र बिहार के सीवान जिला निवासी हैं। जिले के छोटे से गांव से इंदौर के कमिश्नर तक सफर तय किया। इस बारे में उन्होंने भास्कर संवाददाता से बातचीत की।

सीवान के रघुनाथपुर स्थित हरिनारायण चारी मिश्र का घर।
सीवान के रघुनाथपुर स्थित हरिनारायण चारी मिश्र का घर।

सीवान के रघुनाथपुर हरिनारायण चारी मिश्र 2003 बैच के मध्यप्रदेश कैडर के IPS अधिकारी हैं। हरिनारायण मिश्र ने जिले के सरकारी स्कूल में बोरे पर बैठकर अपनी प्राथमिक शिक्षा ली है। भास्कर संवाददाता से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि- "युवा अगर लगातार परिश्रम करें तो निश्चित तौर पर हम जीवन में कुछ अच्छा कर सकते हैं। मुझे लगता है कि गांव में लोगो को लगता है कि संसाधन नहीं है, युवाओं को लगता है कि हम कम संसाधन में है, लेकिन ऐसा नहीं है। अगर आपके पास इच्छा शक्ति हो और मेहनत करेंगे तो सफलता अवश्य मिलेगी।’’

पेड़ के नीचे जमीन पर बैठकर ली प्राथमिक शिक्षा
हरिनारायण चारी मिश्र के छोटे भाई दामोदर चारी मिश्र ने बताया, उनकी प्राथमिक शिक्षा राजपुर में सरकारी विद्यालय में हुई। वहां वे जमीन पर बैठकर पेड़ के नीचे करते थे। प्राथमिक शिक्षा रघुनाथपुर मध्य विद्यालय में 8वीं तक फिर उच्च विद्यालय राजपुर से 1990 में 10 वीं की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद सीवान के DAV कॉलेज से 1992 में इंटर प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की। इसके बाद वे उच्च शिक्षा के लिए BHU चले गए। जहां से उन्होंने 1993-96 में इतिहास ऑनर्स में ग्रेजुएशन किया। इसके बाद BHU से ही इतिहास विषय में मास्टर की पढ़ाई की।

PCS पास कर बने ट्रेजरी अधिकारी फिर IRTS और उसके बाद बने IPS
PG करने के साथ ही उन्होंने 1998 में PCS का परीक्षा पास किया और उत्तर प्रदेश में ट्रेजरी अधिकारी बन गए। जहां सेवा देने के दौरान सिविल सर्विसेज की परीक्षा की तैयारी जारी रखा। 2001 में IRTS पास कर रेलवे अधिकारी बन गए। रेलवे की नौकरी करते हुए उन्होंने UPSC की तैयारी की। इसके बाद अगले साल यानी 2002 में UPSC का परीक्षा दिया। जहां 2003 में आए परीक्षा परिणाम में वे IPS बन गए। उन्हें मध्यप्रदेश राज्य का कैडर मिला।

गांव में उनकी मां और छोटे भाई दामोदर चारी मिश्र।
गांव में उनकी मां और छोटे भाई दामोदर चारी मिश्र।

हर कुछ दिनों पर जरूर आते हैं गांव
उनके छोटे भाई दामोदर चारी मिश्र ने बताया, भैया हरिनारायण चारी मिश्र के IPS अधिकारी बनने के मात्र 6 माह बाद ही दिसंबर महीने में उनके पिता माधवाचारी मिश्र का निधन हो गया। घर पर मां के साथ छोटे भाई रहते हैं। भैया को जब भी समय मिलता है गांव आते हैं। 6 महीने में एक बार वह गांव जरूर आते हैं। उन्होंने कहा कि, बहुत गर्व महसूस हो रहा है कि, भैया अपने कर्तव्य निष्ठा और ईमानदारी से कार्य करते हुए इंदौर के पहले पुलिस कमिश्नर हुए हैं। वे घर से दूर होते हुए भी अपनी जिम्मेदारियों के साथ साथ परिवार की चिंता करते हैं।

5 बहन और 2 भाई हैं हरिनारायण, माता-पिता रहे हैं शिक्षक
सीवान के रघुनाथपुर के रहने वाले स्व. माधवाचारी मिश्र के बेटे और इंदौर के प्रथम पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी का जन्म 03 दिसंबर 1975 को सिवान के रघुनाथपुर में हुआ था। उनके माता पिता दोनों सरकारी स्कूल के शिक्षक रहे हैं। वे 5 बहन और 2 भाई में दूसरे नंबर पर है।

बड़ी बहन नीलू मिश्रा (गृहिणी), दूसरे नम्बर पर हरिनारायण चारी मिश्र (पुलिस कमिश्नर, इंदौर), तीसरे नंबर पर जयश्री मिश्रा (गोपालगंज में शिक्षिका) , चौथे नम्बर पर दामोदर चारी मिश्रा (राजपुर इंटर कॉलेज में शिक्षक), पांचवे नम्बर पर अनुराधा मिश्रा (रघुनाथपुर गर्ल्स मिडिल स्कूल में शिक्षिका रही है,वर्तमान में बंगलोर में है), बाद छठे नंबर पर नूतन मिश्रा ( पुणे रहती है), सातवे नम्बर सबसे छोटी बहन निधि मिश्रा (BPSC क्लियर कर मुजफ्फरपुर में असिस्टेंट प्रोफेसर) हैं।

खबरें और भी हैं...