किसानों की अनदेखी / मुखिया भी 247 नलकूपों से नहीं निकाल सके पानी, पंपसेट से ही हो रही है सिंचाई

The head also could not extract water from 247 tube wells, irrigation is being done from the pumpset itself
X
The head also could not extract water from 247 tube wells, irrigation is being done from the pumpset itself

  • 315 नलकूपों में से 171 खराब, 111 को अधिकारी बता रहे चालू

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:58 AM IST

सीवान. जिले में खरीफ फसलों की बुआई  का समय नजदीक आ गया है। धान के बिचड़े गिराने के लिए किसान खेतों की जुताई कर तैयारी करने में लगे है। किसानों को अपने फसल लगाने की तैयारी के बीच सिंचाई की चिंता सताने लगी है। सिंचाई के लिए सरकारी व्यवस्था पूरी तरह से ठप है। 19 प्रखंडों में लगाए गए सरकारी नलकूपों में लगभग 70 प्रतिशत नलकूप वर्षो से बंद पड़े हैं। नहरों से सिंचाई की व्यवस्था नाम मात्र ही है। ऐसे में किसानों को सिंचाई के लिए भगवान भरोसे बारिश या निजी पंप सेट पर ही निर्भर होना पड़ता हैं।

किसानों को महंगे डीजल खरीद कर सिंचाई करनी पड़ती हैं। हालांकि सरकार के द्वारा सिचांई के कई तकनीक व संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे है। बावजूद किसान सिंचाई के अभाव में कृषि कार्य से अपने को अलग करते जा रहे हैं। कृषि पदाधिकारी ने बताया कि जिले में कुल 1 लाख 17 हजार हेक्टेयर सिंचीत भूमी है। जिसमें 1 लाख 5 हजार हेक्टेयर भूमी पर खरीफ फसलों की खेती की जाती है।  खरीफ फसलों में धान की खेती के लिये ज्यादा पानी की जरूरत होती हैं। जिसकी चिंता सता रही है। बतादें कि जिले में कुल 315 नलकूप लगाए गए है। जिसमें से 247 को मुखिया को हंस्तातरित कर दिया गया है। उसमें से भी 111 ही चलने की बात बताई जा रही है। 
बारिश नहीं होने पर मिलता है डीजल अनुदान
कृषि पदाधिकारी अशोक कुमार राव ने बताया कि खरीफ फसलों के समय बारिश का मौसम रहता है। अगर धान की बुआई के समय बारिश नही होती है तो प्रत्येक वर्ष सरकार डीजल अनुदान देती है। इसकी घोषणा सरकार के द्वारा की जाती है। उन्होंने बताया कि कई किसानों को अनुदान पर बिजली से संचालित होने वाला मोटर पंप दिया गया है। साथ ही बिजली भी कम रेट पर दी जा रही है ताकि किसानों को फसल उत्पादन में  कम लागत आये। 
नलकूपों की मरम्मत कर होगी सिंचाई
जिले के सभी नलकूपों को चलाने के लिए पंचायत स्तर पर मुखिया को हस्तातरित कर दिये गए हैं। कई जगह छोटे छोटे दोष के कारण बंद नलकूपों को ठीक कर लिया गया है। जल्द ही सभी नलकूपों से सिंचाई की सुविधा मिलने लगेगी। -आलोक कुमार सिंह, कार्यपालक अभियंता, लघु सिंचाई प्रमंडल,  सीवान

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना