पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विरोध:सूत मिल तोड़ने गई भवन निर्माण विभाग की टीम का विरोध, बैरंग लौटे अधिकारी

सीवान25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मांगों पर अड़े मजदूर बोले- जबतक वेतन नहीं मिलेगा, तबतक नहीं होगा कोई निर्माण
  • बिल्डिंग तोड़कर इंजीनियर काॅलेज बनानेे का किया जा रहा विरोध
Advertisement
Advertisement

दो दशक से बंद पड़े सीवान सरकारी सूता मिल के भवन को अब सरकार ने नीलाम कर दिया है। इस स्थल पर इंजीनीयरिग कॉलेज बनाया जाना है। इस सूता मिल के भवन को तोड़ने के लिए भवन निर्माण विभाग के पदाधिकारी एड़ी चोटी लगाए हुए हैं। उसी क्रम में मंगलवार को भवन निर्माण विभाग के अधिकरियों की टीम पुलिस बल के साथ जेसीबी लेकर मिल को तोड़ने पहुंची। इस दौरान सूता मिल के कर्मचारियों के आक्रोश के सामने विभाग की एक नही चली। मजदूरों ने अपनी मांगे मिलने के बाद ही कोई भी कार्य करने की बात पर अड़े रहे।

मजदूरों ने कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नही की जाएंगी तब तक धरना प्रर्दशन जारी रहेगा। इस दौरान भवन निर्माण विभाग के एसडीओ सौरभ कुमार, सदर अंचल सीआई अनुज कुमार राय, मुफ्फसिल थानाध्यक्ष रामबिचार राम के साथ काफी संख्या में महिला व पुरूष बल तैनात किया गया था। सूता मिल को तोड़ने पहुंची टीम के अधिकारियों के लाख समझाने के बाद भी मजदूर अपनी मांगों के पूरा होने तक मिल परिसर में किसी भी छेड़छाड करने पर आंदोलन तेज करने की बात कहते हुए अधिकारियों की एक नहीं सुनी।

18 जून से चल रहा धरना
मिल के मजदूर और कर्मचारी 18 जून से लगातार धरना पर बैठे हुए हैं। कर्मचारियों की मांग है कि अनके बकाये वेतन को दिया जाय। इसके साथ ही उम्र व कार्यक्षमता के हिसाब से सभी कर्मियों का समायोजन किसा दूसरे विभाग में किया जाय। धरना देनेवालों में अध्यक्ष प्रिंस उपाध्याय, सचिव लाल मोहम्मद मियां, उपाध्यक्ष बच्चा सिंह, गोरखनाथ सिंह, शिव शंकर यादव, जैनुल शाह, राम नरेश यादव, संजय चौधरी, सुभाष साव, फैयाज अहमद, उदयभान सिंह, आशा देवी, आभा रानी सिन्हा, उषा देवी, एसआर यादव हैं।  

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement