अनदेखी:गोपालपुर के कई वार्ड में नाली और सड़क नहीं, पानी की भी है किल्लत

सीवान3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोपालपुर पंचायत में बनायी गयी पानी गयी टंकी। - Dainik Bhaskar
गोपालपुर पंचायत में बनायी गयी पानी गयी टंकी।
  • बुनियादी सुविधाएं बहाल करने के लिए गुहार लगाते-लगाते थक गए ग्रामीण
  • अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से अबतक मिलता रहा है आश्वासन

हुसैनगंज प्रखंड के गोपालपुर नगर पंचायत के जमालहाता गांव में वार्ड संख्या 7, 8, 9, 10, 11 व 12 में नाली व सड़क की गंभीर समस्या से ग्रामीण परेशान हैं। नाली नहीं होने से सड़क पर घरों का गंदा पानी जमा होता है। इस वजह सड़क से होकर आना-जाना मुश्किल हो गया है। गंदा पानी जमा होने से सड़क भी खराब हो रही है। रात के अंधेरे में कई लोग इस रास्ते से होकर आने जाने में गिर कर घायल हो जाते है। पूरे गांव में कुछ सड़क की पीसीसी ढलाई हुई है लेकिन कुछ जगह अभी बाकी है। गांव की तरफ से जमालहाता की ओर जाने वाली सड़क की हालत तो और भी खराब है। अब तक इस सड़क को नहीं बनाया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में नाली नहीं होने से घरों का गंदा पानी सड़क पर ही जमा होता है। पंचायत में प्रवेश करते ही इधर-उधर जलजमाव की समस्या दिखने लगती है। ग्रामीणों ने मुखिया से लेकर प्रखंड तक शिकायत की है। लेकिन अब तक किसी ने सुधि नहीं ली है। नल जल योजना के तहत टंकी भी नहीं लगायी गयी है। कुछ जगह पर नल जल योजना का सम्पूर्ण लाभ भी नहीं पहुंचा है।
अबतक अधूरी है नल-जल योजना
पंचायत के वार्ड संख्या 9,10, 11 में अब तक ग्रामीणों को नल जल योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। पिछले तीन साल पूर्व मुखिया के द्वारा नल जल योजना लगाने का अस्वाशन मिला था लेकिन अब तक नहीं बना है। जिससे स्थानीय ग्रामीणों को शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि प्रखंड कार्यलय के आस पास में तो साफ पानी मिल जाता है। जिससे अधिकारी व जनप्रतिनिधि को बेहतर व स्वच्छ पानी मिल जाता है लेकिन गांव के क्षेत्रों में साफ पानी की व्यवस्था नहीं है। जिससे हमेशा कोई न कोई बीमार हो रहा है। किसी का ध्यान इस ओर नहीं है। जबकि कुछ लोगों ने अपने घरों में चापाकल लगाया था। लेकिन गर्मी के दिनों में पानी का लेयर भाग जाता है। इसे पन्द्रह से बीस मिनट चलाने के बाद ही पानी निकलता है।

वार्ड 7, 8 व 12 में नहीं लगी है पानी की टंकी, अबतक पाइप भी नहीं बिछा
जमालहाता गांव के वार्डो में सात माह पूर्व ही पानी की टंकी लगाने की प्रतिक्रिया चल रही थी। लेकिन अब तक पानी की टंकी नहीं लगा है। कुछ माह पहले पाइप को बिछाने के लिए सड़क को तोड़ दिया गया था लेकिन अब तक पाइप को नहीं बिछाया गया है। जिसके वजह बच्चे खेलते खेलते गढ़े में गिर कर घायल हो जाते है। गांव में नाला नहीं होने से सड़क के बीचों बीच पानी बहता है। घर का सारा दूषित पानी सड़क पर ही बहता है। जिससे संक्रमित बढ़ने का खतरा ज्यादा रहता है। स्कूल कोचिंग जाने वाले छात्रों को परेशानी होती है। कई बार बच्चे गिर कर घायल भी होते है। किसी का तबियत खराब होने पर एम्बुलेंस दरवाजे तक नहीं पहुच पाता है। पैदल या बाइक से मरीजो को सड़क तक लाया जाता है।

घर के पास जमा रहता है पानी
घर के बाहर ही नाला का पानी बहता है। इससे संक्रमित होने का डर बना रहता है। किसी भी अधिकारी व जनप्रतिनिधियों का ध्यान इस ओर नहीं है।
सतेंद्र चौधरी, ग्रामीण।

कहीं सड़क है तो कहीं नहीं
कुछ गांव में सड़क हैं तो कुछ जगह नामोनिशान नहीं है। कच्ची सड़क है। बरसात में घरों से निकलना मुश्किल हो जाता है। कोई शिकायत भी नहीं सुनता है।
राहुल सिंह, ग्रामीण।

बीमार होने का रहता है खतरा
वार्डों में नल जल का लाभ अबतक नहीं मिला हैं। हमलोगों को साफ पानी नहीं मिल पा रहा हैं। बीमार होने का खतरा बना रहता है। मुखिया का ध्यान नहीं है।
राजदेव यादव, ग्रामीण।

पानी की टंकी का लाभ नहीं
सात माह पूर्व ही पानी की टंकी लगायी गयी थी। अबतक कोई इसका सुध नहीं ले रहा है। इसके कारण पानी का नुकसान ज्यादा हो रहा है। पानी बहता रहता है।
अशोक भगत, ग्रामीण।

विवाद के कारण रुका है काम
सड़कों का निर्माण कराया गया था। कुछ जगह बाकी है। फंड अभी नहीं आया है। भूमि विवाद की वजह से नल-जल का कार्य रुका हुआ है।
राकेश चौबे, बीडीओ।

तीन साल पहले शुरू हुआ था काम
पंचायत में तीन साल पहले से ही नल जल योजना का कार्य चल रहा है। लेकिन कहीं कहीं पाइप लगाकर छोड़ दिया गया है तो कहीं वह भी नहीं। वर्तमान समय में हालात ऐसे है कि लोगों को पानी के लिए भटकना पड़ता है। ग्रामीणों ने जब इसकी शिकायत की तो उनकी बातों पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। अधिकारी और जनप्रतिनिधि दोनों अनजान बने हैं।

सड़क पर बह रहा नाली का पानी, लोग परेशान
पूरे पंचायत में घरों के नाली का गंदा पानी सीधे सड़क पर बह रहा है। इससे राहगीरों को आने-जाने में काफी परेशानी होती है। इसी सड़क से स्कूली छात्र छात्राएं आती जाती है। काफी परेशानी होती है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर सड़क किनारे दोनों साइड नाली का निर्माण करवा दिया जाए तो इस समस्या से लोगों को स्थायी निजात मिल सकती है। लेकिन इस ओर न तो स्थानीय जनप्रतिनिधियों का ध्यान है और ना ही पदाधिकारियों का। गंदा पानी यहां सालों भर बहता रहता है।

खबरें और भी हैं...