कलाकारों में छायी मायूसी:सूर्यपुरा में दुर्गापूजा में पुलिस प्रशासन ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर लगाई रोक

सूर्यपुरा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दुर्गा पूजा के अवसर पर पूजा समितियों के द्वारा पूजा पंडालों के पास रात्रि में ग्रामीणों के लिए मनोरंजन हेतु किए जाने वाले भक्ति गीत संगीत एवं संस्कृति कार्यक्रम नाट्य प्रस्तुति पर प्रशासन के द्वारा रोक लगा देने से इस पेशे से जुड़े कलाकारों के बीच भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। बताते चलें कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण विगत वर्ष भी दुर्गा पूजा के अवसर पर उक्त सभी कार्यक्रम पर पूरी तरह रोक लगा दी गई थी।

जिसके कारण पहले से ही सभी आम आवाम के लोग आर्थिक स्थिति से जूझते हुए अपनी जीवन नैया को किसी तरह से पार लगा रहे थे की पुनः वैश्विक महामारी कोरोना की दूसरी लहर की चपेट में आ कर सभी लोग पूरी तरह चरमरा गए हैं।

वही वर्ष 2021 में प्रशासन के द्वारा दुर्गा पूजा करने के लिए आदेश तो दिया गया है, लेकिन उक्त पूजा स्थलों के आसपास मेला लगाने पर मनाही डीजे बजाने पर पाबंदी तथा रात्रि में सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजनों पर पूरी तरह रोक लगा, देने से इस पेशे से जुड़े भोजपुरी लोकगीतों के कलाकार तथा वाद्य यंत्र बजाने वाले कलाकार एवं डीजे संचालको के व्यवसाय काफी प्रतिकूल असर पड़ता दिख रहा है।

जिसके कारण विभिन्न लोक कलाकारों के चेहरे पर काफी मायूसी छा गई है एवं उनके परिवारों के बीच भूखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। बताते चलें कि पूर्व से ही दुर्गा पूजा के अवसर पर संध्या प्रहर में सप्तमी तिथि से विजयदशमी तक विभिन्न तरह के लोक संगीत के साथ ही, देवी जागरण एवं स्थानीय कलाकारों के द्वारा सामाजिक नाटकों का मंचन किया जाता था।

जिस पर इस वर्ष प्रशासन के द्वारा पूरी तरह रोक लगा देने से उक्त सभी कलाकारों के परिवारों के बीच भूखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। जिसके कारण सभी पर पेशेवर कलाकार काफी मायूस एवं उदास नजर आ रहे हैं। वही इस पेशे से जुड़े देवी जागरण प्रस्तुत करने वाला स्थानीय कलाकार खेसारी टू उर्फ राकेश रोशन ,रामप्रवेश ब्यास वहीं इनके मंडली में साथ साथ चलने वाले वाद्य यंत्र बजाने वाले कलाकारों ने भी बताया कि एक तो कोरोना महामारी से विगत लगभग 2 साल से अनेकों प्रकार की परेशानियां उत्पन्न हो गई थी ,जो इस वर्ष कुछ आस जगी थी।

जिस पर प्रशासन के द्वारा रोक लगाने की आदेश का डंडा चलने से हम जैसे सभी कलाकारों के परिवारों के बीच दशहरा दीपावली एवं छठ पूजा भी फिका- फिका रहेगा।

खबरें और भी हैं...