पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

उदासीनता:लाखों रुपये गटक गए, लेकिन योजना का काम नहीं हुआ पूरा, 40 के खिलाफ नोटिस

तरारीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • तरारी में नल-जल योजना का नहीं पूरा हुआ कार्य, शुद्ध पेयजल से वंचित हैं इलाके के ग्रामीण

जिला मुख्यालय आरा से सुदूर तरारी प्रखंड में सरकारी योजनाओं की बंटाधार होती है। जिला मुख्यालय से सबसे अधिक दूरी रहने के कारण तरारी आते -आते सरकारी विकास योजनाएं दम तोड़ने लगती हैं। इसकी एक बानगी यह है कि विकास योजनाओं में लापरवाही और मनमानी के कारण कई कार्य प्रभावित हो गए हैं। इस वजह से लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाया है। ऐसे में तरारी प्रखंड के 40 वार्ड सदस्यों के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है। बताया जाता है कि तरारी के 6 वार्डो के ग्रामीणों को नल-जल का शुद्ध पेयजल से वंचित होने की समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है।

मुख्यमंत्री द्वारा चलाये जा रहे नल-जल योजना का लाभ से ग्रामीणों के आपसी विवाद तो कही वार्ड सदस्यों की मनमानी के कारण ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल से वंचित होना पड़ सकता है। साल 2018 से क्रियान्वित नल जल योजना का कार्य अभी तक किसी भी पंचायत में पूरा नही हो सका है। राशि निकासी के बावजूद भी कुछ ऐसे वार्ड हैं, जहां कार्य काफी दिनों से लटका हुआ है। तरारी में कुल 220 वार्डो में नल-जल का कार्य हो रहा है। जिसमें मानक के अनुसार कार्य पूरा नहीं करने तथा  कार्य मे शिथिलता बरतने वाले 40 वार्ड सदस्यों के विरुद्ध  मुखिया और बीपीआरओ द्वारा नोटिस भेजा जा चुका है।

लेकिन संवेदकों के चंगुल में फंसे प्रतिनिधि से लेकर अधिकारियों तक कोई बड़ा कदम उठाने से परहेज करते हैं।ग्रामीणों का आरोप है कि सरकार की नल-जल योजना पूरी तरफ लूट की योजना बन चुकी  है। लूट व कमीशनखोरी से सम्बंधित लोग जहां मस्त हैं। वहीं ग्रामीणों को नल जल का शूद्ध पेय जल नही पहुंचने से उनकी मनोकामना पस्त है। मानक के अनुसार हर घर पर परिवार को प्रतिदिन 70 लीटर पानी देना है। लेकिन अधूरा नल जल कार्य की बात कौन कहे, पूर्ण हुए वार्डो में भी लोगों को पूर्णरूप से नल जल का शुद्ध पानी नसीब नहीं हो रहा है।

पंचायत प्रतिनिधियों व अधिकारियों के मिलीभगत से अति महत्वाकांक्षी योजना पूरी तरह से फ्लॉप हो चुकी है। अकरौंज , धर्मदास डिहरी सहित कई ऐसे गांव में पाईप बिछाने के बाद  गलियों का पूर्व में किये गए पीसीसी को तोड़ दिया गया है। लेकिन पाईप बिछाने के बावजूद भी ढलाई नहीं किया जा रहा है। इससे गढ्ढों में तब्दील गलियों में आने-जाने में ग्रामीणों की काफी समस्या होती है।

छह वार्डों में नहीं शुरू हुआ है कार्य
तरारी प्रखंड अंतर्गत शंकरडीह पंचायत के वार्ड संख्या 2, क़ुरमुरी पंचायत के वार्ड संख्या 6,7 , देव पंचायत के वार्ड संख्या 10, जेठवार पंचायत के वार्ड संख्या 12 में ग्रामीणों को आपसी विवाद या वार्ड सदस्यों के निष्क्रियता के कारण नल-जल का कार्य शुरू भी नही हुआ है। देव पंचायत के वार्ड संख्या 4, 7, 9 कार्य अधूरा है।
15 जुलाई के बाद वार्ड सदस्यों पर एफआई आर: बीडीओ
बीडीओ अभिषेक चंदन ने कहा कि कार्य पूरा कराने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। 15 जुलाई तक मानक के अनुसार कार्य पूरा नहीं करने वाले वार्ड सदस्यों के प्राथमिकी दर्ज कराई जायेगी।

21 लाख की राशि की निकासी होने के बावजूद काम लटका
चंदा गांव स्थित वार्ड संख्या 9 में दो जगहों पर नल जल का टंकी लगाना है। दोनों के लिए करीब 21 लाख राशि की निकासी भी हो चुका है। लेकिन एक जगह करीब दस लाख राशि की निकासी होने के बावजूद भी केवल  बोरिंग गलाया गया है। स्ट्रेक्चर भी नही बना है, 80 प्रतिशत पाईप ही बिछा है। वार्ड संख्या- 7 का भी कमोवेश यही स्थिती है।

वार्ड नम्बर- 4 देव गांव में 9 लाख रुपया की राशि निकासी किये हुए एक साल हो गए, पर मात्र केवल बोरिंग ही हुआ है। इसी तरह मोआपखुर्द, चकिया, मोआपकला, बसौरी, डुमरिया सहित कई पंचायतों में नल जल कार्य की स्थिती बदतर है। जबकि, अनुमंडल से लेकर जिला की अधिकारियों की टीम जांच भी करती है। जांच के नाम पर केवल कोरम पूरा किया जाता है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज पिछली कुछ कमियों से सीख लेकर अपनी दिनचर्या में और बेहतर सुधार लाने की कोशिश करेंगे। जिसमें आप सफल भी होंगे। और इस तरह की कोशिश से लोगों के साथ संबंधों में आश्चर्यजनक सुधार आएगा। नेगेटिव-...

और पढ़ें