पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Tarari
  • People's Representative Changed, After Delimitation The Name Of Vis Area Was Also Changed, But The Pain Of The Voters Of Tarari Remains As It Is

वोटरों की परेशानी:जनप्रतिनिधि बदले, परिसीमन के बाद विस क्षेत्र का नाम भी बदला, पर तरारी के मतदाताओं का दर्द ज्यों का त्यों

तरारी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2010 में परिसीमन के बाद भी तरारी विधानसभा के गांवों के लोग बुनियादी समस्याओं से जूझ रहे
  • 39 पंचायतों वाले तरारी विधानसभा क्षेत्र में आज भी गली-नाली और पक्की सड़क लोगों को नसीब नहीं

उन्नचालिस पंचायतों वाला तरारी विधानसभा क्षेत्र के विकास का ढिंढोरा भले ही क्षेत्र के नेतृत्वकर्ता पीट रहे हों पर सच्चाई यह है कि कई ऐसे गांव हैं जहां के लोग गली-नाली पक्की सड़क निर्माण के लिए तरस रहे हैं। 2010 में परिसीमन के बाद सहार विधानसभा से तरारी विधानसभा बन जाने के बाद भी जनप्रतिनिधि तो बदले पर मतदाताओं की किस्मत नहीं बदल सकी।

राशन किराशन, शिक्षा चिकित्सा सड़क बिजली जैसी मूलभूत समस्यायों को दूर कराने के लिए ग्रामीणों को सड़क से लेकर प्रखंड मुख्यालय तक पहुंचकर प्रदर्शन करना पड़ा। मोअपकला के ग्रामीणों को ट्रांसफार्मर लगाने की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने लाठी चटकाई गयी।

साथ उनकी आवाज दबाने के लिए मुकदमा दर्ज किया गया। अन्य दिन हो या कोरोना काल हर समय जनवितरण प्रणाली की दुकानदारों का दबदबा कायम रहा। शिकायत के बावजूद भी गरीबों को सही तरीके से राशन किराशन दिलाने में जनप्रतिनिधि लाचार बने रहे। जिससे गरीब असहाय जनता अपने को लुटती महसूस करती रही। सरकार का दावा हर गांव टोले को पक्की सड़क से जोड़ा जाएगा।

इंग्लिशपुर में कच्ची सड़क से होकर जाने की है मजबूरी

इंग्लिशपुर गांव की आबादी करीब 400 है। कच्ची सड़क तो है। लेकिन वहां के लोगों को वर्षात के समय करीब एक किलोमीटर गड्ढों में तब्दील कच्ची सड़क से पैदल चलकर जाना पड़ता है। इंग्लिशपुर गांव के भुवर यादव, संतोष यादव सहित कई ग्रामीणों ने कहा कि हमारे गांव के ग्रामीण बहुत दिनों से सड़क नही होने से परेशानी की समस्या से जूझ रहे हैं। विधायकों और पंचायत प्रतिनिधियों से गुहार लगाते-लगाते थक चुके हैं। लेकिन समस्या ज्यों की त्यों बनी रह गयी है।
कोरनडिहरी के ग्रामीण चचरी पुल के सहारे नहर पार कर जाते हैं मुख्यालय
सहार प्रखंड के कोरनडिहरी गांव के ग्रामीण गांव के सामने चचरी पुलिया बनाकर आरा मुख्य नहर को पार कर आरा जिला मुख्यालय या सहार प्रखंड मुख्यालय जाते हैं। गांव के समीप नहर पार मुख्य पथ है। जिसपर वाहनों का आना जाना लगातार जारी रहता है। गांव के नजदीक नहर में पुल नही है। एक से डेढ़ किलोमीटर पैदल चलने के बाद पुल पार कर मुख्य पथ पर जाना पड़ता है।

वहीं गांव से पश्चिम तरफ पक्की जर्जर सड़क है जिससे सहार या आरा जाने में काफी लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। कोनी गांव के ग्रामीण सात वर्ष पहले जब क्षेत्र के बिधायक और सांसद से कहते कहते हार गए तो स्वयं श्रम दान तथा आर्थिक दान से डेढ़ किलोमीटर कच्ची सड़क बना डाला। लेकिन कच्ची सड़क बनने के बावजूद भी बिधायक और सांसद से पक्की सड़क का निर्माण नही हो सका।

अनुआं निवासी समाजसेवी घनश्याम राय ने कहा कि क्षेत्र के गरीबों को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाने में बिधायक विफल रहे हैं। सहार और तरारी के स्वास्थ्य केंद्रों में महिला डॉक्टरों की तैनाती नही होने से महिलाओं को एनएम के भोरेसे ईलाज कराना पड़ रहा है। इंदिरा आवास में अनियमितता, खाद्यान्न सामग्रियों की कालाबाजारी व राजनीति का अपराधीकरण से जनता त्रस्त है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें