शुभकामनाएं दी:नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों से मिले एमएलसी पंचायती राज विभाग के नियमों पर की चर्चा

तिलौथूएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रोहतास कैमूर स्थानीय निकाय प्राधिकार विधान पार्षद संतोष कुमार सिंह बुधवार को तिलौथू प्रखण्ड के कई पंचायतों में जाकर नवनिर्वाचित पंचायती राज जनप्रतिनिधियों से मिल कर उन्हें उनके सफल राजनीतिक यात्रा की शुभकामना दी। एमएलसी ने तिलौथू पूर्वी, तिलौथू पश्चिमी, सरैया, चंदनपुरा, रामडीहरा, चितौली पंचायतों में जाकर नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों से मिलकर उनके बेहतर राजनीतिक भविष्य की शुभकामनाएं दी।

इस क्रम में सरैया गांव में नवनिर्वाचित मुखिया संजय चौधरी के घर पर आयोजित अभिनंदन कार्यक्रम में मौजूद पंचायती राज जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जनता ने बड़ी उम्मीदों के साथ आप सभी को मौका दिया है। इस मौके का इस्तेमाल पंचायत और अपने वार्ड के विकास में करना है। पंचायती राज व्यवस्था गांव की अपनी सरकार होती है। सरकार से सीधे आपके पास योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए पैसे आते हैं जिसे आप सब अपने गांव के जरूरी योजनाओं में खुद से खर्च करते हैं। वर्तमान एनडीए सरकार देश की इकलौती सरकार है जिसने वार्ड सदस्यों और पंचायतों को इतने अधिकार दिए हैं। पंचायती राज प्राधिकार का पार्षद के तौर पर मैंने विधान परिषद में पंचायती राज जनप्रतिनिधियों के कई समस्याओं को रखा जिसके बाद सरकार ने उस पर अमल किया। मेरा हरदम प्रयास रहता है कि आपलोगों की दिक्कतों को दूर करने के लिए सरकार के स्तर पर मजबूती से बात रखूं। इस बार सरकार के स्तर से पंचायती राज व्यवस्था में कई बदलाव देखने को मिलेंगे जिससे पंचायतों में विकास कार्यों को और बेहतर तरीके से अंजाम दिया जा सके।

मौके पर उपस्थित सभी जनप्रतिनिधियों को अंगवस्त्र देकर पार्षद ने सम्मानित किया। मौके पर सरैया मुखिया संजय चौधरी, तिलौथू पश्चिमी पंचायत मुखिया प्रतिनिधि उपेंद्र यादव, वरुण राजपूत, केशव सिंह, अशोक सिंह, भाजपा प्रखण्ड अध्यक्ष विनोद सिंह कुशवाहा, युवा मोर्चा अध्यक्ष अभय कुमार सहित कई मौजूद थे। इससे पहले एमएलसी सन्तोष सिंह मदारीपुर स्थित प्रेमचंद सिंह के समेकित कृषि फार्म पर भी थोड़ी देर के लिए पहुंचे जहां लोगों ने उनका अभिवादन किया। वहां की उन्नत व्यवस्था देख संतोष सिंह ने कहा कि सभी कृषक इस तरह ही छोटे स्तर पर अपने गांव में ही स्वरोजगार कर जीविकोपार्जन कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...