परेशानी:पानी जमा होने से बिहार की सबसे बड़ी अनाज मंडी गुलाबबाग में पैदल चलना भी मुश्किल

पूर्णिया4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुलाबबाग आनाज मंडी में लगा बारिश का पानी। - Dainik Bhaskar
गुलाबबाग आनाज मंडी में लगा बारिश का पानी।
  • गुलाबबाग मंडी से जल निकासी का साधन ही नहीं, बदबू से लोग परेशान

बारिश का पानी जमा होने से बिहार की सबसे बड़ी गुलाबबाग की अनाज मंडी की स्थिति ऐसी है कि यहां पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। गुलाबबाग मंडी सिर्फ जिला या राज्य भर की ही मंडी नहीं है,बल्कि यह अन्तर्राष्ट्रीय मंडी भी है। यहां से पड़ोसी राष्ट्र नेपाल,भूटान और बंगलादेश का भी व्यापार होता है।  ऐसे में गुलाबबाग मंडी का महत्व और बढ़ जाता है। दुर्भाग्य से हल्की बारिश में भी गुलाबबाग मंडी में जब आप प्रवेश करेंगे तो सबसे पहले आप गंदगी ही पाएंगे। इससे आगे जब आप आलू प्याज मंडी की ओर जाएंगे तो वहां आप को अन्दर जाने की हिम्मत नहीं हो पाएगी। इसका कारण बरसात के पानी के जमने से कीचड़ भर जाना और पूरे परिसर में जल निकासी की व्यवस्था नहीं होना है। चावल मंडी में नाले तो बने हैं लेकिन पानी नाला में ही डम्प रहता है। फलस्वरूप हमेशा सड़ांध की बदबू आती रहती है और अगर हल्की बरसात भी हो जाती है तो सिस्टम की पोल खुलती नजर आने लगती है। चावल मंडी में पानी हमेशा जमा रहता है। अंदर की सड़कें भी टूटी हैं जहां हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। मकई मंडी में तो लगता है कि शायद ही कभी सफाई होती होगी। ऐसे में सूअर का हमेशा जमावड़ा लगा रहता है। बरसात के मौसम को छोड़ दें तो यहां हमेशा धूल उड़ती मिलेंगी जिसमें आप का सांस लेना भी दूभर हो जाता है। यह भी यथार्थ है कि यह मंडी बिहार सरकार को अच्छी खासी आमदनी देने वाली मंडियों में एक है। फिर भी यह मंडी अहिल्या रूप में जड़वत होकर अपने राम का का इंतजार कर रही है जो एक दिन इसको नारकीय जीवन से मुक्ति दिलाएगा और गुलाबबाग मंडी गुलाब की तरह निखरेगी और पूर्णिया की शान को भव्यता प्रदान करेगी।

खबरें और भी हैं...