• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Purnia
  • Mahananda, Parman And Kankai Flooded, Water Entered Sugwa Mahanandpur Of Baisi, Simalbari Of Marwa And Amour

तीन नदियां खतरे के निशान के पार, बायसी में बाढ़:महानंदा, परमान व कनकई उफनाई, बायसी के सुगवा महानंदपुर, मड़वा व अमौर के सिमलबाड़ी में घुसा पानी

पूर्णिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दो दिनों से लगातार बारिश के कारण से बायसी अनुमंडल क्षेत्र से गुजरने वाली महानंदा, परमान व कनकई नदी खतरे के निशान के पार होने के साथ ही बायसी अनुमंडल क्षेत्र में बाढ़ ने दस्तक दे दी है।जिले से होकर गुजरने वाली महानंदा नदी अपने खतरे के निशान 35.65 मीटर से 45 सेंटीमीटर ऊपर 36.10 मीटर पर बह रही है।वहीं परमान नदी अपने खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर 47.25 मीटर और कनकई नदी अपने खतरे के निशान 46.94 मीटर से 41 सेंटीमीटर ऊपर 47. 25 मीटर पर बह रही है।नदियों के खतरे का निशान पार करने के साथ ही बायसी अनुमंडल के बायसी, बैसा व अमौर प्रखंड में बाढ़ जैसा हालात बन गया है।

नदी का पानी खेत-खलिहान को पार करने के साथ-साथ लोगों के घर आनंग में घुस आया है। वहीं बैसा प्रखंड से होकर बहने वाली कनकई नदी के कटाव के कारण से की सुबह खाताटोली गांव में सड़क पुरी तरह नदी के कटाव में समा गया है।वहीं सिरसी से काशीबाड़ी होते हुए दुलालगंज जाने, फुलेसरी से हरना जाने वाली मुख्यमंत्री सड़क तथा रायबेर से जगदल जाने वाली सड़क ईदगाह टोला के समीप कट चुकी।सड़क कटने से कई गांव का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से टूट गई है।वहीं बायसी प्रखंड में नदी का पानी सुगवा महानंदपुर के अलावा बनगामा पंचायत के माडवा गांव समेत अन्य इलाकों में बाढ़ के पानी ने दस्तक दे दी है ।इसके अलावा अमौर प्रखंड के सिमलबाड़ी नगर तोला समेत अन्य इलाकों में बाढ़ का पानी घुस आया है।नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी के कारण से घरों में घुस रहे पानी के कारण से लोग अपने घर द्वार को छोड़ कर सुरक्षित स्थानों के लिए निकल चुके हैं। कई लोगों अपने परिवार के साथ सड़क के किनारे तो कुछ लोगों ,पुल के पास या सरकारी भवन में अपना ठिकाना बना लिया है।घरों में नदियों के पानी घुसने के साथ ही लोगों को अब अपने घरों के साथ-साथ बच्चों और अपने परिवार के लोगों की चिंता सताने लगी है।स्थानीय लोगों ने बताया कि पहले इस बार मानसून आने के साथ ही नदियों का कटाव काफी तेज हो गया था।कई लोगों का आशियाना बाढ़ में समा गया। पिछले कई दिनों से क्षेत्र में लगातार बारिश होने के कारण जनजीवन बेहाल है। लेकिन बुधवार को अचानक के तीनों नदियों का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गई है।लोगों के पास सर छिपाने के लिए जगह नहीं बचा है।लोग किसी तरह परिवार और कुछ-कुछ समाना को लेकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचे हैं। बाढ़ की पानी सैकड़ों एकड़ में लगी धान की फसलों को पूरी तरह बर्बाद कर दिया है। वही कई गांव में में बाढ़ कि स्थिति हो गई है। कई घरों में पानी घुस गई है।

पीड़ितों को ऊंची जगह आश्रय लेने भेजी जा रही तीनों नदियों के खतरा का निशान पार कर जाने के बाद नदियों का पानी लोगों के घरों में घुस आया है।प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया जा रहा है ।जो बाढ़ से प्रभावित है उन्हें चिन्हित विद्यालय व उच्च स्थलों पर जाने के लिए कहा गया है। जहां उनके रहने-खाने की पूरी व्यवस्था रहेगी। -कुमारी तोसी, एसडीओ, बायसी

खबरें और भी हैं...