तैयारी:आंगनबाड़ी केंद्रों पर होगा मेन्यू का निर्धारण

कसबा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पोषण की स्थिति का आंकलन के अनुसार मिलेगी पोषाहार की राशि

पोषण की स्थिति का आकलन कर आंगनबाड़ी केंद्रों पर मेन्यू का निर्धारण किया जाएगा। इसी आधार पर पोषाहार की राशि दी जाएगी। सीडीपीओ मीरा कुमारी ने बताया कि कुपोषित एवं अतिकुपोषित बच्चो के लिए यह नियमावली लाया गया है,ताकि बच्चों को अच्छे से खान-पान मिल सके। वह कुपोषण का शिकार न हो।बताया जाता है कि सरकार कुपोषण मुक्त समाज बनाने की दिशा में प्रयास कर रही है। कुपोषण के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में आगनवाड़ी केंद्रों के बच्चों के पोषण की स्थिति पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। ताकि,बच्चो को पूरक पोषाहार के रूप में कैलोरी एवं प्रोटीन युक्त भोजन मिल सके। इसके लिये सरकार ने चालू वित्तीय वर्ष में पूरक पोषाहार का मेन्यू तय किया जाता है। आईसीडीएस द्वारा निर्धारित मेन्यू के अनुसार 3 से 6 वर्ष के बच्चों को सप्ताह में तीन दिन खिचड़ी एक दिन पुलाव एक दिन रसिया एवं एक दिन सूजी का हलवा दिया जाएगा इस तरह महीने में कुल 25 दिन गर्म खाना पौष्टिक भोजन सभी केंद्र पर देने का प्रावधान है। प्रत्येक बुधवार एवं शुक्रवार को सुबह नाश्ते में अंडा खाने वाले बच्चों को एक उबला अंडा और अंडा नहीं खाने वाले बच्चों को अंकुरित चना एवं गुड़ दिया जाएगा। सुबह में नाश्ते में मौसमी फल, गुड़,चूड़ा अथवा भूना चना दिया जाना है : आईसीडीएस गाइडलाइन के अनुसार सुबह में नाश्ते में मौसमी फल गुड़ चूड़ा अथवा भुना चना मूंगफली दिया जाना है। जिला स्तरीय मूल्य निर्धारण समिति द्वारा किसी सामग्री का मूल घटता है या बढ़ता है तो उसे सुबह के नाश्ते की राशि से वहन किया जा सकता है। साथ ही अगर अन्य सामग्री राशि में बचत होती है तो उसका वहन गुणवत्ता वाले सुबह के नाश्ते देने में किया जाएगा। संभावित मेन्यू एवं दर निर्धारण थोक बाजार भाव के आधार पर बनाते हुए सूचक दर के रूप में किया जाएगा। खाद्यान्न की दर का निर्धारण जिले में डीएमए उनकी अध्यक्षता में गठित कमेटी करेगी। यदि जिलास्तरीय मूल्य निर्धारण समिति द्वारा किसी सामग्री का दर घटता है तो मॉर्निंग स्नेक्स में दी जाने वाली सोयाबड़ी में इसका वहन किया जाएगा। अगर किसी सामग्री की राशि में बचत होती है तो स्थानीय गुणवत्ता वाले मॉर्निंग स्नैक्स एवं दी जाने वाली सोयाबड़ी की मात्रा बढ़ाई जा सकती है। 6 से 72 माह के सामान्य कुपोषित बच्चों को 8 रुपये जिसमें पोषाहार का मानक 500 कैलोरी व 12 से 15 ग्राम प्रोटीन निर्धारित की गई है। 6 से 72 माह के अतिकुपोषित बच्चो को 12 रुपये जिसमे पोषाहार का मानक 800 कैलोरी व 20 से 25 ग्राम प्रोटीन निर्धारित की गई है। महिलाओं को 9.50 रुपये में पोषाहार 6 सौ कैलोरी व 18 से 20 ग्राम प्रोटीन निर्धारित की गई है।

खबरें और भी हैं...