आक्रोश:नर्सिंग होम में मरीज की मौत, परिजनों ने रोड पर एंबुलेंस में शव रख किया जाम, हंगामा

पूर्णियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एम्बुलेंस को सड़क के बीच लगाकर सड़क जाम करते मृतक के परिजन व मौजूद पुलिसकर्मी। - Dainik Bhaskar
एम्बुलेंस को सड़क के बीच लगाकर सड़क जाम करते मृतक के परिजन व मौजूद पुलिसकर्मी।
  • फूटा गुस्सा , सड़क दुर्घटना में घायल होने पर अकबरपुर के बमबम को कराया था निजी अस्पताल में भर्ती
  • परिजनों ने कहा- इलाज में लापरवाही के कारण हुई मौत, इलाज के नाम पर लिये गये 1 लाख 10 हजार रुपए

इलाज के दौरान मरीज की मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप था कि अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से उनके मरीज की मौत हुई है। गुस्साए परिजन ट्रू लाइफ सेंट्रल हॉस्पिटल में तोड़फोड़ की और शव को एम्बुलेंस में रखकर सड़क को बांस-बल्ले से जाम कर हंगामा करने लगे। बताया जाता है कि रोड एक्सीडेंट में रूपौली अकबरपुर के एक मरीज को इलाज के लिए यहां भर्ती कराया गया था, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने पर पहुंची केहाट व सहायक खजांची थाने की पुलिस गुस्साए परिजनों को शांत करने में जुटी थी। मृतक बमबम कुमार मेहता अकबरपुर रुपौली का रहने वाला बताया जाता है। मृतक के साले प्रीतम कुमार ने बताया कि बमबम कुमार मेहता सोमवार को अकबरपुर से हरदा अपने ससुराल जा रहे थे कि हरदा के समीप सड़क दुर्घटना में वे घायल हो गये। उन्हें बेहतर इलाज के लिए पूर्णिया लाइन बाजार के बिहार टॉकिज रोड में ट्रू लाइफ सेंट्रल हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। मरीज को माथे पर हल्की चोट लगी थी। मरीज सुबह ठीक-ठाक थे और घर चलने के लिए कह रहे थे। लेकिन, हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा कि मरीज अभी पूरी तरह ठीक नहीं हैं, कल ले जाइएगा। उसके बाद सुबह से न कोई डॉक्टर मरीज को देखने आये और न ही कोई कम्पाउंडर ही झांकने आया। मरीज जैसे-तैसे रहा। उसने बताया कि हमलोगों से इलाज के नाम पर 1 लाख 10 हजार रुपए ले लिया गया। इस बीच शाम में कहा कि मरीज की मौत हो गई। मरीज की मौत से आक्रोशित परिजनों ने हॉस्पिटल में घुसकर तोड़फोड़ की और इसके बाद सड़क जाम कर दिया। परिजनों को हंगामा करते देख हॉस्पिटल के सभी स्टाफ मौके से गायब हो गए।

एम्बुलेंस पर मौजूद मृतक के परिजन।
एम्बुलेंस पर मौजूद मृतक के परिजन।

इंवर्टर के भरोसे चल रहा आईसीयू, जेनरेटर भी नहीं
मृतक के परिजन हीरा मणि देवी ने बताया कि हॉस्पिटल में आईसीयू में मरीज को भर्ती किया गया लेकिन इन्वर्टर के भरोसे आईसीयू चलाया जा रहा था। लाइन भी नहीं रहती थी। हमलोगों का मरीज ठीक था, डॉक्टर की लापरवाही की वजह से मरीज की मौत हो गई है। वहीं, हंगामे के बाद हॉस्पिटल में भर्ती बभनपुरा के चंदन कुमार जो अपने हर्निया का आपरेशन करवाए थे,उन्होंने बताया की हॉस्पिटल की कोई व्यवस्था ठीक नहीं है। ऑपरेशन के बाद कोई डॉक्टर देखने तक नहीं आये हैं। हॉस्पिटल में न तो जेनरेटर है न बिजली की अच्छी व्यवस्था। मरीज के परिजनों की मांग थी कि हॉस्पिटल संचालक को सामने लाया जाए। इस संबंध में परिजनों ने लिखित आवेदन केहाट थाना के एसआई सुभाष कुमार को देते हुए इंसाफ की मांग की। इस मामले में ट्रू लाइफ सेंट्रल हॉस्पिटल के संचालक बबलू कुमार से संपर्क करने की कोशिश की गई तो उनका नंबर 7004735149 बंद पाया गया।

खबरें और भी हैं...