• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Rohtas
  • Dehri Is Likely To Become A Municipal Corporation, The Team Of CAT And Dehriyansh Launched A Campaign To Make Tej District, Memorandum Submitted To The Deputy Chief Minister

डेहरी को नगर निगम बनने की संभावना बढ़ी:कैट और डेहरीयांश की टीम ने तेज की जिला बनाने की मुहिम, उप मुख्यमंत्री को सौंपा गया ज्ञापन

रोहतास2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार के उप मुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद से मुलाकात कर डेहरी को जिला एवं नगर निगम बनाने के लिए कैट अध्यक्ष बबल कश्यप एवं डेहरीयांस के सदस्यों ने संयुक्त रूप से ज्ञापन सौंपा Iज्ञापन में डेहरी अनुमंडल के वर्तमान में पाँच ब्लॉक जो की क्रमशः नौहट्टा,रोहतास, तिलौथु, डेहरी एवं अकोढ़ीगोला है इसमें तीन ब्लॉक जोड़कर नासरीगंज, काराकाट एवं गोराडी को मिलाते हुए एक नया जिला बनाये जाने का प्रस्ताव रखा गया है I

आबादी एवं क्षेत्रफल की दृष्टि से डेहरी पुरे बिहार में क्रमशः 18 वे एवं 11 वें स्थान पर खडा है, आज के परिपेक्ष्य में अगर इनसभी ब्लॉको को मिलाते हैं तो आबादी करीब 20 लाख के पास पहुँचती है। इसके साथ ही साथ डेहरी शहर की आबादी 3.5 लाख के करीब है जोकि पूरे बिहार में इकलौता ऐसा शहर है जो इतनी आबादी के बावजूद जिला मुख्यालय नही बन सका है।

जिला बनने की हर अहर्ताओं को पुरा करते हुए नगर क्षेत्र में रोहतास जिला के प्रमुख विभागों के मुख्यालय अवस्थित हैं जैसे- पुलिस महानिरीक्षक शाहाबाद, पुलिस अधीक्षक रोहतास, श्रम अधीक्षक एवं नियोजन रोहतास, सिंचाई विभाग का प्रमंडलीय कार्यालय, बी.एम.पी - 2 कमान्डेंट इन सभी प्रमुख कार्यालय के अलावे अन्य मुख्य कार्यालय भी उप्लबध हैं I

जो इस बात का प्रमाण है की डेहरी जिला मुख्यालय बनने की सारी मापदंड को पूरा भी करता है। गौरतलब है कि बिहार सरकार ने विगत दिनों बिहार में कुछ नये जिले बनाने के संकेत भी दिए हैं जिसके लिए सरकार ने एक कमेटी भी बनाई गई है जिस कमेटी के अध्यक्ष बिहार के उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री तारकेश्वर प्रसाद है डेहरीयांस टीम के सदस्यों ने सभी बातो को विस्तारपूर्वक उपमुख्यमंत्री को बताया जिस पर उन्होंने भी सहमति जताई।

आंकड़ों की निगाह से देखें तो बिहार की 21 शहरो से बड़ा शहर है डेहरी इसके अलावे रोहतास का क्षेत्रफल बड़ा होने के कारण प्रशासनिक व्यवस्था भी दक्षिणी सुदूर क्षत्रों तक जो की नक्सली प्रभावित इलाका है आज तक कई सुविधाओं से वंचित है।