धान की रोपनी शुरू:इस वर्ष के मानसून में पहली बार 28 मिमी हुई बारिश, धान की रोपनी शुरू

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धान की रोपनी करती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
धान की रोपनी करती महिलाएं।
  • बिक्रमगंज में दाेपहर तीन बजे के बाद हुई झमाझम बारिश से कई मुहल्ले में जलजमाव, 18 जून से 23 जून तक महज 4 मिमी बारिश हुई थी

मानसून पिछले साल की अपेक्षा देर से आया है, लेकिन 24 जून को बारिश अच्छा खासा हुआ। इससे किसानों में उत्साह है। शुक्रवार को मूसलधार हुई बारिश के बाद कही कही किसानों ने खेतों में धान की रोपाई भी शुरु कर दिए हैं। पिछले साल मानसून जिले में 12 जून को आया था। इस बार 18 जून को आया, लेकिन 18 जून से लेकर 23 जून तक महज 4 मिमी बारिश हुई थी पर 24 जून को मूसलधार बारिश तेज आंधी व गर्जन के साथ घण्टों बरसात हुआ। घंटाें हुआ बारिश में 28 मिमी तक औसत बारिश हुआ। शुक्रवार को दोपहर तक तेज धूप व गर्मी से लोग हलकान हुए थे पर 3 बजते बजते आंधी तूफान व तेज गर्जन के साथ बारिश हुआ और किसानों के चेहरे खिल उठे।

तेज हवा के कारण कई जगह टूटकर गिरी पेड़ की टहनियां
तेज हवा के कारण कही कही पेड़ की टहनी टूट कर भी गिरा है जिससे कुछ देर के लिए आवागमन भी अवरुद्ध रहा। हलांकि मानसून सक्रिय होने की बात मौसम विभाग के अधिकारी कहने लगे हैं इसके पहले जिले में तेज धूप व प्रचंड गर्मी ने लोगों को जीना मुहाल कर दिया था। अभी भी जिले के कई हिस्सों में वर्षा शुरु नहीं हो सका है। कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक आर के जलज कहते हैं कि मौसम एक्टिव हो गया है। जिन किसानों ने रोहणी नक्षत्र में धान के बिचड़े डाले थे उनके अब रोपनी शुरु हो गया है। पिछले साल 2021 में 24 जून तक 60-4 मिमी बारिश हुआ था। इस बार 18 जून से 23 जून तक 4 मिमी तो 24 जून को ही सिर्फ 28 मिमी बारिश हुआ। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में अच्छी बारिश होगी।

बारिश की वजह से नमी बढ़ी, अब गर्मी से मिलेगी राहत
शुक्रवार को जोरदार मूसलधार बारिश होने के बाद नमी की मात्रा में वद्धि हुई है। इसके पहले जहां वातावरण में 35 फीसदी नमी था अब 53 नमी हो गया है। इसी कारण अब गर्मी का एहसास एक दो दिनों में नही होगा। मौसम विभाग के अधिकारियों की माने तो अभी एक दो दिनों तक बूंदाबून्दी बारिश होगा। इस मानसून के सबसे ज्यादा बारिश 24 जून को हुआ। अभी तक मानसून आने के बाद इतने बारिश नही हुआ था। बीते 2019 में 26 जून को 28.3 बारिश एक दिन में हुआ था। मानसून की पहली बारिश इतने तेज होने पर नगर परिषद के नाले कही कही जाम हो गए। पीसीसी ढलाई पर जल जमाव हो गया। जिससे शहर वासियों को घरों से निकलना मुश्किल हो गया। एक तरफ बारिश को लेकर किसानों में खुशी देखी गई तो दूसरी तरफ जल जमाव से शहर के लोगो ने अधिकारियों के प्रति नाराजगी जाहिर किए।

खबरें और भी हैं...