योजना में मनमानी:सासाराम प्रखंड में आवास योजना में धांधली के खिलाफ किया प्रदर्शन

सासाराम9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सासाराम प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन करते पंचायत प्रतिनिधि। - Dainik Bhaskar
सासाराम प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन करते पंचायत प्रतिनिधि।

सासाराम प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास योजना में बरती गई अनियमितता के विरुद्ध प्रखंड के जनप्रतिनिधियों ने मोर्चा खोल दिया है। आवास पर्यवेक्षक तथा सहायक के मनमानी और अवैध वसूली से आक्रोशित पंचायत प्रतिनिधियों ने शनिवार को सासाराम प्रखंड कार्यालय पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन का नेतृत्व सदर प्रखंड प्रमुख कौशल्या देवी ने किया।

मौके पर आक्रोशित पंचायत समिति सदस्य सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने नारेबाजी करते हुए भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की मांग की। प्रदर्शनकारियों ने प्रखंड विकास पदाधिकारी से मिलकर जांच के बाद तत्काल कार्रवाई की मांग की। उसके बाद प्रखंड प्रमुख के नेतृत्व में समाहरणालय पहुंच मामले की लिखित शिकायत डीएम से की।

प्रदर्शन कर रहे हैं पंचायत प्रतिनिधियों की माने तो सासाराम प्रखंड के मोकर, समरडिहां, करूप सहित अन्य पंचायतों में आवास योजना में भारी धांधली बरती गई है। आक्रोशित जनप्रतिनिधियों ने बताया कि आवास योजना स्वीकृति और भुगतान के लिए प्रति लाभुक 25000 से 30,000 रुपए की अवैध वसूली आवास सहायक और उनके दलालों के माध्यम से की गई है। जिसकी शिकायत कई बार प्रखंड विकास पदाधिकारी से की गई लेकिन आज तक कोई करवाई नहीं की जा सकी है।

बोले बीडीओ- जांच के बाद होगी कार्रवाई

सदर प्रखंड विकास पदाधिकारी जनार्दन तिवारी ने बताया कि मामले की शिकायत मिली है। आवास योजना में अनियमितता से आक्रोशित पंचायत प्रतिनिधियों जिलाधिकारी को आवेदन देकर जांच की मांग की है। इस मामले में डीएम के आदेश के बाद जांच कर विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मामले में दोषी पाए जाने वाले लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।

शिकायत के बाद मोकर पंचायत में राशि भुगतान में लाई गई तेजी

प्रखंड के मोकर पंचायत में एक दर्जन से अधिक पक्का के मकान वाले अयोग्य लाभुकों को पीएम आवास योजना का लाभ देते हुए प्रथम किस्त का भुगतान कर दिया गया। मामला प्रकाश में आने के बाद ग्रामीणों ने जांच कर कार्रवाई के लिए डीडीसी को आवेदन दे दिया।

अभी मामले में जांच भी शुरू नहीं हो पाई थी कि आवास पर्यवेक्षक ने जिनके खिलाफ शिकायत है उन्हीं लाभुकों के खाते में दूसरी किस्त का भुगतान तेजी से करना शुरू कर दिया। पर्यवेक्षक चंदन से पूछे जाने पर उसने बताया कि मामले में शिकायत की कोई जानकारी उन्हें नहीं है। मैं खुद घर-घर जाकर जांच के बाद दूसरी किस्त का भुगतान कर रहा हूं। आदेश मिलेगा तभी भुगतान पर रोक लगेगी।

खबरें और भी हैं...