रोहतास में सड़े चावल को लेकर डीएम सख्त:डीएम ने किया दो सदस्यीय जांच दल का गठन, 24 घंटे के अंदर मांगी रिपोर्ट

रोहतास2 महीने पहले

रोहतास जिले के चेनारी प्रखण्ड आंगनबाड़ी केंद्रों में भोजन व टीएचआर वितरण के लिए गोदाम प्रबंधक द्वारा सड़े चावल की आपूर्ति का मामला गर्मा गया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए शुक्रवार को डीएम धर्मेंद्र कुमार दो सदस्यीय जांच दल का गठन किया है।

जांच दल में जिला प्रबंधक राज्य खाद्य निगम पदाधिकारी उदय नारायण प्रसाद व रश्मि रंजन डीपीओ, आइसीडीएस शामिल है। डीएम ने बताया कि स्थानीय लोगों के माध्यम से सूचना प्राप्त हुई कि चेनारी में आंगनबाड़ी केंद्रों में गर्म भोजन व टीएचआर वितरण के लिए खराब गुणवत्ता वाला चावल गोदाम प्रबंधक द्वारा आपूर्ति की जा रही है।

चेनारी के आंगनबाड़ी सेविकाओं द्वारा चावल का उठाव नहीं किया जा रहा है। जिसके कारण आंगनबाड़ी केंद्रों का कार्य प्रभावित हो रहा है। मामले में दो सदस्यीय जांच दल का गठन किया गया है। जांच दल को 24 घंटे के अंदर जांच प्रतिवेदन देने को कहा गया है। जांच रिपोर्ट के आधार पर अग्रतर कार्रवाई की जाएगी।

आंगनबाड़ी संविकाओं ने चावल के उठाव से किया इंकार

ज्ञात हो कि जिले के चेनारी प्रखंड में बाल विकास परियोजना कार्यालय तथा एसएफसी गोदाम पर पहुंचकर सेविकाओं ने पोषाहार के घटिया चावल गोदाम से उपलब्ध कराने और नाराज होकर चावल लेने से इंकार कर दिया। गुरुवार को बड़ी संख्या में सेविका सीडीपीओ कार्यालय पहुंची थी, और सीडीपीओ को एक आवेदन सौंप कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया था। सेविकाओं का कहना है कि गोदाम प्रबंधक के द्वारा सड़ा हुआ चावल दिया जा रहा है।

गोदाम प्रबंधक की ओर से दबाव बनाया जा रहा है कि आप इसी चावल का उठाव कीजिए। इस मामले में सेविका संघ के प्रखंड अध्यक्ष मीना पांडे ने बताया कि सरकार से दी जाने वाली चावल सड़े होने के कारण सभी सेविकाओं के द्वारा उठाने से इंकार कर दिया गया है। कहा कि सड़ा चावल च दल को 24 घंटे के अंदर जांच प्रतिवेदन देने को कहा गया हैण् जांच रिपोर्ट पर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...