बिक्रमगंज नप के पूर्व ईओ पर वित्तीय घोटाले की FIR:कमेटी की जांच रिपोर्ट के बाद डीएम की कार्रवाई, 1.91 करोड़ से अधिक का मामला

सासाराम3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तत्कालीन ईओ की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
तत्कालीन ईओ की फाइल फोटो।

बिक्रमगंज नगर परिषद में अनुपयोगी वस्तु की खरीददारी एवं सरकारी राशि के दुरूपयोग मामले में तत्कालीन ईओ पर प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश डीएम धर्मेन्द्र कुमार द्वारा मंगलवार को दिया गया। तत्कालीन ईओ प्रेम स्वरूपम 2019-21 के कार्यकाल में की गई खरीददारी के अनियमितता के खिलाफ कुछ वार्ड पार्षदों द्वारा डीएम से लिखित शिकायत की गई थी। डीएम ने मामले में जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का ग्ठन किया था। जांच दल में एसडीएम बिक्रमगंज, कोषागार पदाधिकारी सासाराम एवं जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी शामिल थे। जांच दल ने अपनी रिपोर्ट में शिकायत को सही पाया है। जांच रिपोर्ट्र आने के बाद डीएम ने उक्त इओ पर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया है।

एक करोड़ से अधिक के खरीदे गए मेटालिक साइनेज बोर्ड

जांच रिर्पोट में कहा गया कि नगर परिषद बिक्रमगंज के विभिन्न वार्डों एवं मुख्य सड़कों पर मेटालिक साइनेज बोर्ड की खरीददारी की गई, 1 करोड़ 11 लाख, 84 हजार 355 रुपए का भुगतान किया गया, जो सीधे-सीधे अनुपयोगी खरीद में वित्तीय अनियमितता है। इसी तरह 30 ई-रिक्शा के खरीद में 80 लाख 26 हजार दो सौ का भुगतान किया गया। जिसमें बिडिंग प्रोसेस, उपयोगिता एवं गुणवत्ता संबंधी अनियमितता पाई गई है।

बिक्रमगंज थाने में प्राथमिकी दर्ज

मामले को गंभरता से लेते हुए वर्तमान इओ सूर्य नंदन सिंह को तत्कालीन इओ प्रेम स्वरूपम पर एवं इसमें शामिल अन्य कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्देश डीएम द्वारा दिया गया है। इओ सूर्य नंदन सिंह ने बताया कि निर्देश के आलोक में पूर्व EO पर बिक्रमगंज थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई जा रही है।

खबरें और भी हैं...