पहल:गड्ढा मुक्त भारत अभियान के तहत ग्रामीण सड़कों पर बने गड्ढे को भरने का एफएसएच फाउंडेशन ने कार्य आरंभ किया

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सड़को किनारे उभरे गड्ढे को भरते फाउंडेशन के लोग - Dainik Bhaskar
सड़को किनारे उभरे गड्ढे को भरते फाउंडेशन के लोग
  • फाउंडेशन के सदस्यों के सहयोग से हर रविवार के दिन चिह्नित सड़कों के उभरे गड्ढे को भरा जाएगा

गड्ढा मुक्त भारत अभियान की शुरुआत एफ एस एच फाउंडेशन के द्वारा किया गया। शुरुआत के तौर पर फाउंडेशन के द्वारा प्रखण्ड से गुजरने वाली हर छोटी बड़ी सड़को में उभरे गड्ढे को भरने का लक्ष्य रखा गया हैं। फाउंडेशन के अध्यक्ष सुनीत कुमार खुद ग्रामीण परिवेश से आते हैं। उन्होंने बताया कि फाउंडेशन बनाने का मुल उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्राें में आर्थिक विकास के साथ ग्रामीणों को जागरूक करना था। फाउंडेशन के मुख्य उदेश्य शिक्षा है, लेकिन अफसरों एवं गैर जिम्मेवार नेताओं की लापरवाही से छोटे छोटे गांव में अनेक प्रकार की समस्या है, जिसमें गांव मे गंदगी, रोड में जानलेवा गड्ढे, शिक्षा के लिए दुर्लभ व्यवस्था अादि अनेक प्रकार की समस्या है। अभी बरसात का मौसम है और रोड पर बने गड्ंढ़ो में पानी भर जाने से लोगों काे अंदाज नहीं मिलता की कितना गड्ढा है और लोग दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं। जिसे बीते दिन गड्ढा मुक्त भारत अभियान की शुरुआत एफ एस एच फाउंडेशन द्वारा की गई।

आपके सामने गांव की सड़काें में कही गड्डे मिले ताे उसे समय निकाल उसे जरूर भरें
इस अभियान के तहत प्रत्येक रविवार को अपने सदस्यों द्वारा खतरनाक गड्ढे को चिन्हित कर उसको ईट बोल्डर, बालू सीमेंट डाल भरा जाएगा। एक तरफ कुछ लोग को निजी कार्यों से ऊपर उठकर कुछ दिखता नहीं वही समाज के कुछ देश के प्रति सेवा एवं विस्तार के लिए अपना जीवन के खाली समय को देकर इंसान के मूल्य कर्तव्य को निभाते है, जो व्यक्ति देश एवं समाज के विकास के लिए एक कदम बढ़ाये उससे बड़ा इस दुनिया में कुछ नहीं है। ऐसे लोगों को समाज में हमेशा सर्वश्रेष्ठ माना जाएगा और इस जीवन में सेवा से बढ़कर कोई खुशी नहीं है। मैं लोगों से अपील करता हूं की इस बरसात के मौसम में आपके गांव शहर में कही भी कोई गड्ढा दिखे तो उसमें 10 मिनट समय देकर उसमें ईट पत्थर जरूर डाले। देश का विकास आपका विकास होगा। सड़क दुर्घटना कोई जाति पाती समाज नहीं पूछकर होती। इसलिए आपके सामने गांव की सड़काें में कही गड्डे मिले ताे उसे समय निकाल उसे जरूर भरें ।

खबरें और भी हैं...