निर्देश:पेपर लेस होगा निर्वाचन विभाग, मतदाता सूची में नाम जोड़ने और हटाने के लिए नहीं होगा कागज के फॉर्म का उपयोग

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गरुड़ा एप के बारे में जानकारी देते पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
गरुड़ा एप के बारे में जानकारी देते पदाधिकारी।
  • मतदाता सूची में नए मतदाताओं का नाम जोड़ने, हटाने, एवं संशोधित करने का काम ऑनलाइन होगा

लोकतंत्र में वोटर होने पर मतदाता सूची में नाम रहना देश का नागरिक होने का प्रमाण माना जाता है। यही कारण है कि निर्वाचन आयोग की ओर से हर संभव प्रयास कर मतदाता सूची को दुरूस्त करते हुए त्रुटिरहित बनाने के लिए कार्य किया जाता है। इसी संदर्भ में आयोग की ओर से गरुड़ा एप का निर्माण कराया गया है। इसके माध्यम से अब मतदाता सूची में नए मतदाताओं का नाम जोड़ने, नाम हटाने, नाम संशोधित करने व एक विधान सभा क्षेत्र में मतदान केंद्र परिवर्तन को लेकर ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा। जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी सत्यप्रिय कुमार ने बताया कि गरुड़ा एप के आ जाने से अब बीएलओ को किसी मतदाता का नाम जोड़ने व हटाने आदि कार्य को लेकर किसी प्रकार का कागजी प्रपत्र भरने की आवश्यकता नहीं रह जाएगी।

उन्होंने बताया कि गरुड़ा एप सभी मतदान केंद्र स्तरीय पदाधिकारियों के लिए विकसित किया गया है। उक्त ऐप के माध्यम से मतदान केंद्र स्तरीय पदाधिकारी, सभी पात्र व्यक्तियों द्वारा ऑनलाइन (एनवीएसपी अथवा वोटर हेल्पलाइन के माध्यम से) किए गए आवेदनों को ईआरओ नेट से प्राप्त करने के पश्चात उन्हें प्रोसेस करेंगे। सभी बीएलओ को निर्देश दिया गया है कि सभी प्राप्त दावा/आपत्ति के ऑनलाइन फॉर्म को संबंधित आवेदक के घर जाकर उनकी सारी प्रविष्टियों को सत्यापित करें तथा तत्पश्चात पूर्णतया संतुष्ट होकर उसे ओके करते हुए सहायक निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी को सबमिट कर दें।

बीएलओ को भी गरुड़ा एप का हैंड ऑन प्रशिक्षण दिया जाएगा
बीएलओ अपने मतदान केंद्र या क्षेत्र में अपने मतदाताओं का ऑनलाइन व ऑन स्पॉट आवेदन कर सकेंगे। इससे जहां मतदाता सूची संशोधित करने का काम सही व आसानी से हो पाएगा वहीं यह जल्द पूरा भी हो पाएगा। जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी सत्यप्रिय कुमार ने बताया कि इसको लेकर सहायक निर्वाचक निबंधन पदाधिकारियों के अलावे ब्लॉक लेवल मास्टर ट्रेनर को प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षणोपरांत संबंधित मास्टर ट्रेनर, सहायक निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी एवं निर्वाचक निबंधन पदाधिकारी प्रखंडस्तर पर 25, 26 एवं 28 जून को अपने क्षेत्रान्तर्गत छोटे-छोटे समूह में बीएलओ को गरुड़ा एप के हैंड ऑन ट्रेनिंग देना सुनिश्चित करेंगे।

खबरें और भी हैं...