गया-DDU रेल मार्ग पर 18 घंटे बाद परिचालन बहाल:रात एक बजे से अप और रिवर्सिंबल लाइन पर चलने लगी ट्रेनें, सबसे पहले गुजरी राजधानी

सासाराम (रोहतास)2 महीने पहले
गुरुवार अहले सुबह ट्रैक पर गुजरती ट्रेन।

रोहतास जिले से गुजरने वाली गया-दीनदयाल उपाध्याय रेल मार्ग पर बुधवार रात एक बजे यातायात सामान्य हो गया है। रात पर यु़द्धस्तर से चले काम के बाद अप और रिवर्सिबल लाइन पर ट्रेनें सामान्य रूप से चलने लगी हैं। ज्ञात हो कि बुधवार सुबह गया-दिनदयाल उपाध्याय रेल मार्ग कुम्हऊ स्टेशन पर एक माल गाड़ी पटरी से उतर गई थी, जिससे यह रेल मार्ग पूरी तरह से बाधित हो गया था। गुड्स ट्रेन के 22 बोगी दुर्घटनाग्रस्त हुए थे, जिसके बाद अप, डाउन, एवं रिवर्सिबल सभी ट्रैक पर परिचालन ठप्प हो गया था।

दोपहर बाद रेलवे का रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ। लगातार युद्धस्तर पर कार्य करने के बाद देर रात दो बजे से अप एवं रिवर्सिबल पर परिचालन सामान्य हो गया। अभी रेस्क्यू जारी है। जल्द ही डाउन लाइन पर भी परिचालन सामान्य हो जाएगा।

देर रात दो बजे से अप एवं रिवर्सिबल पर परिचालन सामान्य हो गया।
देर रात दो बजे से अप एवं रिवर्सिबल पर परिचालन सामान्य हो गया।

सबसे पहले गुजरी भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस

प्राप्त जानकारी के अनुसार रात एक बजे परिचालन शुरू होने के बाद सबसे पहले अप लाइन से एक माल गाड़ी भेजी गई। फिर यात्री ट्रेन में सबसे पहले भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस 22811 अप लाइन से गुजरी है। इसके बाद सभी ट्रेनें सामान्य रूप से चल रही हैं।

यात्री ट्रेन में सबसे पहले गुजरी भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस।
यात्री ट्रेन में सबसे पहले गुजरी भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस।

18 घंटे तक रेलमार्ग रहा बाधित

ज्ञात हो कि बुधवार सुबह 630 बजे अप लाइन पर एक तेज गति से जा रही लौंग गुड्स ट्रेन कुम्हउ स्टेशन पर अचानक पटरी से उतर गई। तेज आवाज के साथ ट्रेन के करीब एक इर्जन डब्बे पटरी से उतर गए थे। इसके बाद से करीब 18 घंटे तक गया-दीनदयाल उपाध्याय रेल मार्ग बाधित रहा, जिससे इस मार्ग पर सुबह गुजरने वाली डेढ़ दर्जन ट्रेनों के रूट बदल दिए गए हैं और आधा दर्जन ट्रेनें रद्द कर दी गई थी। लेकिन 18 घंटे बाद परिचालन अब सामान्य हो गया है।