सहरसा में पुलिस पर हमला:सड़क हादसे में बुजुर्ग की मौत पर भीड़ ने आरोपी को पीटा, बचाने गई पुलिस पर फेंके पत्थर

सहरसा3 महीने पहले

सहरसा में सड़क हादसे के बाद पुलिस और पब्लिक के बीच बवाल हो गया। पुलिस को अपनी जान बचाने के लिए पिस्टल का सहारा लेना पड़ा। भीड़ इतनी उग्र थी कि पिस्टल तानने के बाद भी नहीं मानी और पुलिस वालों को खदेड़ दिया। अब इसका वीडियो सामने आया है।

दरअसल, सड़क हादसे में एक बुजुर्ग की मौत हो गई थी। लोगों ने आरोपी बाइक सवार को पकड़ लिया और उसकी पिटाई शुरू कर दी। जैसे ही इसकी सूचना पुलिस को मिली, वो मौके पर पहुंची। पर आक्रोशित लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। जान बचाने के लिए पुलिस को पिस्टल तानना पड़ गया। इस घटना में बाइक सवार गंभीर रूप से जख्मी है, वहीं मृतक बुजुर्ग की पहचान 60 वर्षीय टूनो सादा के रूप में की गई है। घटना शनिवार देर रात की है।

लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया तो बचाव में पिस्टल निकालनी पड़ी।
लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया तो बचाव में पिस्टल निकालनी पड़ी।

लोग आरोपी को बचाने पहुंची पुलिस पर आक्रोशित हो गए थे। पुलिस को खदेड़ना शुरू कर दिया। इस दौरान कुछ जवानों को भी चोट लगी। अगर पुलिस मौके पर नहीं पहुंचती तो लोग बाइक सवार की हत्या कर देते। लोगों के उग्र रूप को देखकर अपने बचाव में पुलिस को पिस्टल निकालना पड़ा। इसके बाद लोग पीछे हटे। इसके बाद पुलिस आरोपी युवक राजा को सुरक्षित वाहन पर लेकर निकाल सकी।

मृतक की पहचान 60 वर्षीय टूनो सादा के रूप में की गई।
मृतक की पहचान 60 वर्षीय टूनो सादा के रूप में की गई।

उग्र लोगों से बचाव के दौरान पुलिस पदाधिकारी कामाख्या कुमार के पिस्टल की मैगजीन भीड़ में गिर गई। हालांकि बाद में लोगों ने उन्हें यह वापस दे दिया। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपी युवक को जैसे गाड़ी में बैठाया उग्र भीड़ ने हमला कर दिया। गुस्साई भीड़ ने पुलिस बल पर पथराव करते हुए दारोगा कामाख्या नारायण और एएसआई विनोद राय और पुलिस बलों के साथ मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान दोनों पुलिस पदाधिकारी जख्मी हो गए।

खबरें और भी हैं...