• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Saharsa
  • Pots, Mats And Bags Will Be Prepared From Hyacinth Leaves, Vermi Compost Will Be Made From Its Roots, Pilot Project Starts In Muradpur

कवायद:जलकुंभी के पत्तों से तैयार होगा बर्तन, चटाई और थैला, इसकी जड़ों से बनेगा वर्मी कम्पोस्ट, मुरादपुर में पायलट प्रोजेक्ट शुरू

नवहट्टाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुरादपुर गांव मे पायलट प्रोजेक्ट का निरीक्षण करते मनरेगा पीओ। - Dainik Bhaskar
मुरादपुर गांव मे पायलट प्रोजेक्ट का निरीक्षण करते मनरेगा पीओ।
  • मनरेगा योजना के तहत मुरादपुर पंचायत में जलकुंभी निकालने के कार्य में जुटे मजदूर

मनरेगा योजना के तहत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना जलकुंभी निस्तारण और उनसे बननेवाली वस्तुओं के प्रयोग के रूप में पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत मुरादपुर पंचायत में रविवार को की गई। कार्यक्रम पदाधिकारी जियाउद्दीन व मुखिया राहुल झा की मौजूदगी में 4245 स्क्वायर फीट में मजदूरों ने जलकुंभी निकाला। मौके पर अवतार रिसोर्सेस प्राइवेट कंपनी के मैनेजर पंकज वर्मा, पीआरएस अभिमन्यु कुमार जीविका के अभिषेक कुमार, लाइवलीहुड स्पेशलिस्ट प्रदीप कुमार, सहित अन्य मौजूद थे। पीओ जियाउद्दीन ने बताया उच्च विद्यालय मुरादपुर से पहले ड्रेनेज में मजदूरों द्वारा 4245 स्क्वायर फीट जलकुंभी निकाला गया। उसे बड़े पत्ते को काटकर अलग किया गया। जिससे चटाई, बर्तन बनाने के लिए उसे भेजा जाएगा। साथ में वर्मी कंपोस्ट खाद के लिए जलकुंभी की जड़ों को अलग रखा जा रहा है। जिसे प्रयोग के लिए स्टेट लेवल पर भेजा जाएगा। एक्सपर्ट की टीम इसी सप्ताह सहरसा आएगी जो इसके विभिन्न उत्पादों पर शोध करेगी। इस पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत मुरादपुर पंचायत से किया गया है। मुखिया राहुल झा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जीविका स्वावलंबी महिलाओं क आत्मनिर्भर बिहार के प्रयोग में यह एक अनूठा प्रयास है। जलकुंभी आच्छादित क्षेत्र कोसी के बगल के क्षेत्र में जलकुंभी के कारण बहुत सारी जमीनों पर खेती नहीं हो पाती है। उस में जल प्लावन क्षेत्र में मछली मखाना का उत्पादन किया जा सके और जलकुंभी से विभिन्न वस्तुओं का निर्माण किया जा सके इसके वैकल्पिक उपयोग पर यह प्रयोग किया जा रहा है। जलकुंभी से वर्मी कंपोस्ट सहित बायोडीजल जलकुंभी के पत्तों से चटाई, पर्स, लेडीज पर्स सहित विभिन्न बर्तनों का निर्माण में इसका प्रयोग किया जाएगा। जिससे किसान की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और मजदूरों को रोजगार मिलेगा।

खबरें और भी हैं...