आदेश:‘आदतन विद्यालय से अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों को चिह्नित कर करें कार्रवाई’

सहरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्कूलों में नियमित रूप से प्रयोगशाला और पुस्तकालय संचालन का प्रधानाध्यापकों को दिया आदेश

आदतन विद्यालय से अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों को चिन्हित करते हुए उन्हें नोटिस निर्गत करें। तत्पश्चात उनके विरूद्ध अनुशासनिक विभागीय कार्रवाई आरंभ करते हुए उन्हें सेवा से मुक्त करने हेतु अग्रेतर कार्रवाई का निर्देश डीएम आनंद शर्मा ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को दिया है। डीएम आनंद शर्मा सोमवार को जिलान्तर्गत सभी माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के प्राचार्यों के साथ समीक्षात्मक बैठक कर रहे थे। बैठक में शिक्षकों के विद्यालय में उपस्थिति की समीक्षा में जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि आदतन विद्यालय में अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों को चिन्हित करते हुए उन्हें नोटिस निर्गत करें। तत्पश्चात उनके विरूद्ध अनुशासनिक विभागीय कार्रवाई आरंभ करते हुए उन्हें सेवा से मुक्त करने हेतु अग्रेतर कार्रवाई करें। बैठक में जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि 18 मई तक उच्च विद्यालयों में कुल-11226 बच्चे का नामांकन हो चुका है। कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में 300 एवं जिला स्कूल सहरसा में कुल-47 बच्चों का नामांकन अबतक किया गया है। विद्यालयों में प्रयोगशाला का नियमित रूप से छात्र-छात्राओं द्वारा उपयोग करने की समीक्षा में सभी प्राचार्य एवं छात्र नेता से पूछने पर बताया गया कि विद्यालय/महाविद्यालय में प्रयोगशाला की सामग्री, शिक्षक एवं प्रयोगशाला कक्ष उपलब्ध है किन्तु प्रयोगशाला की कक्षा नहीं हो रही है। सभी प्राचार्यों को निर्देश दिया गया कि समय सारणी के अनुसार प्रयोगशाला वर्ग का संचालन सुनिश्चित करें। प्रयोगशाला के लिए उपस्कर, सामग्री आदि आवश्यकता होने पर प्रबंधन समिति के माध्यम से उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाय। साथ ही समय सारणी में लाइब्रेरी का पिरियड भी सम्मिलित करने को कहा गया। जिस विद्यालय में लाइब्रेरियन नहीं है वहां किसी शिक्षक को प्रभार देकर पुस्तकालय का नियमित संचालन करें। जिला शिक्षा पदाधिकारी ने बताया कि डी.बी.टी. के माध्यम मैट्रिक/पोस्ट मैट्रिक छात्रवृति प्रदान करने के संदर्भ में अबतक 28000 छात्र-छात्राओं का विवरण इंट्री कर ली गई है । तकनीक के माध्यम से गुणवतापूर्ण शिक्षा के तहत जानकारी दी गई कि पिसव मोबाइल एप 9वीं से 12वीं कक्षा छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी है। किसी प्रकार की एकेडमीक समस्या का समाधान 60 सेकेन्ड के अंदर छात्र-छात्रों को भारत के शीर्ष टयूटर्स से प्राप्त होगा। पढ़ाई एवं परीक्षा से जुड़े सभी सवालों का जवाब हमेशा सभी छात्र-छात्राओं को प्राप्त हो सकेगा। बताया गया कि छात्र-छात्राएं गूगल प्लेस्टोर पर जाकर इस ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...