बदला मौसम:पहले मानसून का दिखा असर, 40 एमएम बारिश होने से कई गलियां हुई जलमग्न

सहरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को बारिश के दौरान शहर के सुनसान शंकर चौक का दृश्य। - Dainik Bhaskar
मंगलवार को बारिश के दौरान शहर के सुनसान शंकर चौक का दृश्य।
  • दिनभर रुक-रुक कर हुई बारिश से लोगों को भीषण गर्मी से मिली राहत
  • अधिकतम 3.5 डिग्री तो न्यूनतम तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की कमी

जिले में मंगलवार को पहली मानसून में जोरदार बारिश हुई। दिनभर बूंदाबांदी होने से सामान्य जन जीवन अस्त व्यस्त रहा। शाम 5 बजे तक 40 एमएम बारिश होने से शहरी क्षेत्र की कई गलियां जलमग्न हो गई। सुबह से ही आकाश में बादल छाए रहने एवं दिनभर रूक-रूक कर हुई बारिश से लोगों को भीषण गर्मी से राहत मिली। अधिकतम तापमान में 3.5 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की कमी दर्ज की गई। मौसम पूर्वानुमान में अगले पांच दिनों तक भारी से मध्यम बारिश होने की संभावना व्यक्त की गई है। किसानों को सलाह दी गई है कि जन किसानों का धान का बिचड़ा तैयार हो गयाा है वह धान की रौपाई शुरू कर देंं। जिले में अमूमन 15 जून के आसपास मानसून पूरी तरह सक्रिय हो जाता है। सीमांचल इलाके में 13 -14 जून को मानसून प्रवेश भी कर गया था लेकिन कोसी क्षेत्र में मानसून का असर नहीं दिखा। मानसून आने के सामान्य समय के 13 दिनों बाद मंगलवार को जिले में मानसून का प्रभाव देखने को मिला। बारिश नहीं होने से बीते कुछ दिनों से लोग उमस भरी गर्मी से बुरी तरह परेशान थे। लेकिन मंगलवार की सुबह से ही आकाश में पूरी तरह बादल छाए रहे तथा करीब 9 बजे से हल्की बूंदाबांदी शुरू हुई। समय बीतने के साथ-साथ बारिश भी तेज होती गई। शाम के करीब 5 बजे 40 एमएम बारिश हुई। दोपहर दो बजे 29.3 एमएम बारिश दर्ज हुई थी। दिनभर सूर्य के दर्शन नहीं हुए। बारिश के समय 14 से 18 किमी की रफ्तार से चलने वाली दक्षिणी पूर्वा हवा के कारण एक दिन पहले की तुलना में अधिकतम तापमान में 3.5 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस की कमी आने से लोगों ने राहत की सांस ली।एक दिन पहले अधिकतम तापमान 31.5 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

वार्ड संख्या 11 में सड़क पर जमा पानी
वार्ड संख्या 11 में सड़क पर जमा पानी

पहली बारिश में ही दिखने लगा जल जमाव
मानसून की पहली सामान्य बारिश ने शहरी क्षेत्र में होनेवाली जलजमाव की और इशारा कर दिया है। शहरी क्षेत्र के कई वार्डों में जल जमाव हो गया। शहरी क्षेत्र के वार्ड संख्या 11 में कपसिया हाउस के समीप सड़क जलमग्न हो गया। वार्ड संख्या 8 में भी कई घरों के सामने जलजमाव हो गया। न्यू कॉलोनी से नया बाजार जानेवाली मुख्य सड़क पर पानी जमा हो जाने से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई।

29 जून को 80 एमएम वर्षा होने की संभावना
मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान में अगले पांच दिनों तक सामान्य बारिश से भारी बारिश होने की संभावना जताई गई है। क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र अगुवानपुर के मौसम वैज्ञानिक अशोक पंडित ने बताया कि आज यानी 29 जून को 80 एमएम, 30 जून को 40 एमएम,1 जुलाई को 30 एमएम, 2 जुलाई को 10 एमएम तथा 3 जुलाई को भी 10 एमएम बारिश होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि इस दौरान आसमान में बादल छाए रहेंगे तथा अधिकतम तापमान 32 से 35 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान 25 से 27 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहेगा। उन्होंने कहा कि जो किसान एंड्रॉयड मोबाइल का उपयोग कर रहे हैं उन्हें आंधी और बिजली के बारे में शुरुआती अलर्ट के लिए दामिनी एप,मौसम आधारित कृषि सलाह के लिए मेघदूत एप,थंडर एवं बारिश के लिए मौसम और रेन अलार्म एप डाउनलोड करना चाहिए। किसानों को सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि जिन किसानों का धान का बिचड़ा तैयार हो गया है वह बीज रोपने का कार्य शुरू कर दें।

खबरें और भी हैं...