बैठक:नाबार्ड संपोषित स्वयं सहायता समूह जय भारत विकास समिति का गहन अध्ययन किया

समस्तीपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में उपस्थित सदस्य। - Dainik Bhaskar
बैठक में उपस्थित सदस्य।

प्रखंड की हांसा पंचायत के नागरबस्ती में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय में अध्ययनरत एमएसडब्ल्यू की छात्रा नंदिता रानी ने अपने इंटर्नशिप के दौरान सुविख्यात संगठन अनमोल उपहार सेवा फाउंडेशन द्वारा संचालित नाबार्ड संपोषित स्वयं सहायता समूह जय भारत विकास समिति का गहन अध्ययन किया। उन्होंने समूह के सदस्यों से रूबरू होते हुए समूह के संचालन एवं इससे होने वाली लाभ पर चर्चा की। समूह के सभापति सुमित्रा देवी ने कहीं की स्वयं सहायता समूह में सभी सदस्य प्रत्येक माह मासिक बचत जमा करते हैं तथा जिन सदस्यों को ऋण की आवश्यकता पड़ती है, उन्हें सस्ते दरों पर ऋण दिया जाता है। इससे आने वाली ब्याज तथा दंड की राशि लाभांश के रूप में पांच वर्षों में वितरित की जाती है। उन्होंने कही की मैं पहले अपने पति पर निर्भर थी, अब मैं समूह से कर्ज लेकर किराना दुकान चला रही हूं और प्रत्येक माह आमदनी में से अपने ऋण को किस्त में अदा कर रही हूं। सदस्य महेंद्र महतो ने बताया कि समूह रहने के कारण हमलोगों को अब साहूकार या महाजन के पास नहीं जाना पड़ता है। आज से 15 वर्ष पहले पांच से 10 प्रतिशत मासिक ब्याज पर कर्ज लेना पड़ता था, उसमें भी गहना, जेवर, थाली, लोटा बंधक रखने के पश्चात ही कर्ज मिलता था। आज आसानी से हम लोगों को समूह द्वारा ऋण उपलब्ध हो जाता है। सदस्य सुनीता देवी ने कही कि समूह से महिलाएं आत्मनिर्भर हुई है, आज पैसे के लिए अपने पति पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है। संस्था के निदेशक देव कुमार ने कहा कि स्वयं सहायता समूह गरीबों का अपना बैंक है। जिसमें 5 वर्षों में इनकी बचत राशि का दोगुना लाभांश हो जाता है साथ ही समय पर ऋण आवश्यकता की पुर्ति हो जाती है। छात्रा रानी ने संस्था के कार्यों की प्रशंसा करते हुए नाबार्ड एवं औसेफा को साधुवाद दिया। मौके पर समूह के सदस्य सुमित्रा देवी, नीलम देवी, सुनीता देवी, आरती देवी, अनीता देवी, सुनील कुमार, मनोज कुमार सहनी, राहुल कुमार, महेंद्र महतो, रामदयाल साह आदि थे।

खबरें और भी हैं...