कार्रवाई:सारण के 10 अनुदानित इंटर कॉलेजों में नामांकन पर लगी रोक, अस्तित्व पर संकट

छपराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के निर्देश के बाद भी समय पर आवेदन जमा नहीं करने पर कार्रवाई

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा बार-बार निर्देश जारी करने के बाद भी समय पर आवेदन (कागजात) नहीं जमा करने वाले सारण जिले के 10 अनुदानित इंटर कॉलेजों में नामांकन पर रोक लगा दी गई है। सरकार ने इस लापरवाही को गंभीरता से लेते हुए नामांकन लेने वाले कॉलेजों की सूची से इन कॉलेजों को बाहर कर दिया है। जानकारों का कहना है कि अब ऐसे कॉलेजों के अस्तित्व पर संकट खड़ा हो गया है। अपना पुराना अस्तित्व बरकरार रखने के लिए इन कालेजों को लंबी कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ सकती है, जो आसान नहीं होगा। शिक्षा विभाग के विशेष सचिव ने इस संबंध में आदेश जारी किया है।
461 कालेजों को नामांकन की अनुमति दी
यहां बताते चलें कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने संकल्प संख्या 785 30 दिसंबर 2021 के अधार पर इंटर स्तरीय महाविद्यालयों एवं माध्यमिक विद्यालयों से संबद्धता प्राप्ति के लिए समिति कार्यालय में संकल्प संख्या 785, 31 दिसंबर 2020 द्वारा निर्धारित अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2021 तक संबद्धता प्राप्ति के लिए आवेदन समर्पित करने का निर्देश दिया था। निर्धारित तिथि तक जिन काॅलेजों ने आवेदन समर्पित कर दिया है उनमें नामांकन पर रोक नहीं लगाई गई है। लेकिन जिन कालेजों ने लापरवाही बरती है, उनमें नामांकन पर रोक लगा दी गई है।

काॅलेजों से आवेदन निर्धारित प्रपत्र में भरकर जमा करने का निर्देश दिया था
जानकारी के अनुसार बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने निर्धारित तिथि तक संबद्धता को लेकर काॅलेजों से आवेदन निर्धारित प्रपत्र में भरकर जमा करने का निर्देश दिया था। इसको लेकर समिति ने कई बार तिथि भी विस्तारित की थी लेकिन इन काॅलेजों ने लापरवाही बरतते हुए इसे गंभीरता से नहीं लिया। कुछ कालेजों ने निर्धारित तिथि के बाद तथा कुछ ने अंतिम दिन आधे-अधूरे आवेदन दिए। जानकारी के अनुसार जिन 10 अनुदानित इंटर कॉलेजों में नामांकन पर रोक लगाई गई है, उनमें मांझी इंटर कॉलेज मांझी, जगलाल राय कॉलेज रौजा, तपेश्वर सिंह कॉलेज छपरा, एसडीएस इंटर कॉलेज जलालपुर, सूर्यदेव इंटर कॉलेज रामपुर, एसडीएस कॉलेज छपरा, यमुना सिंह कॉलेज एकमा, पी आर कॉलेज सोनपुर, मसरख महाविद्यालय मशरख तथा लोक महाविद्यालय बनियापुर शामिल है। दिसंबर 2021 के बाद आवेदन करने वाले कालेजों को गैर अनुदानित की श्रेणी में रखा गया है।

अनुदान की राशि के वितरण की स्वीकृति दी गई है
बीते दिनों कैबिनेट ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति संबद्धता विनियमावली 2011 (यथा संशोधित) के आलोक में राज्य के अनुदानित 599 इंटर स्तरीय महाविद्यालयों एवं 16 माध्यमिक विद्यालयों में से 461 इंटर स्तरीय महाविद्यालयों एवं 15 माध्यमिक विद्यालयों को संबद्धता के लिए निर्धारित मापदंड की पूर्ति एवं संबंधित प्राप्ति के लिए विभागीय संकल्प संख्या 785 दिनांक 30/12/ 2020 के अनुसार अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2021 को 31 दिसंबर 2022 तक विस्तारित करने एवं संबद्धता प्राप्त करने के उपरांत ही इन संस्थानों को शैक्षणिक सत्र 2014-16 से अनुदान की राशि के वितरण की स्वीकृति दी गई है। सूबे के 599 में से 461 काॅलेजों को नामांकन की अनुमति दी गई है। जिन 139 कॉलेजों में नामांकन की अनुमति नहीं दी गई है, उनमें सारण जिले के 10 कॉलेज हैं।

खबरें और भी हैं...