मांग:अपशिष्ट प्रबंधन के लिए जमीन नहीं, प्रभुनाथ नगर के जलजमाव का निराकरण जल्द हो

छपरा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वेन्ट्रंस फोरम की टीम डीएम से वार्ता के लिए पहुंची। - Dainik Bhaskar
वेन्ट्रंस फोरम की टीम डीएम से वार्ता के लिए पहुंची।
  • तीन मुद्दों पर वार्ता: वेटरन फरोन्स फॉर ट्रांसपेरेंसी की प्रतिनिधि मंडल डीएम से मिला
  • सरकारी राशन की दुकान के आवंटन के समय सेवानिवृत्त सैनिकों को प्राथमिकता दी जाए

शहर की तीन समस्याओं पर वेटरन फरोन्स फॉर ट्रांसपेरेंसी इन पब्लिक लाइफ की टीम ने डीएम से वार्ता की। इस मौके पर तीनों मुद्दों को रखा गया। जिसे डीएम ने गंभीरता से लिया और उसे शीघ्र पूरा कराने का आश्वासन दिया। फोरम के प्रतिनिधि मंडल मौके पर मौजूद थी। इस बावत न्यायालय में याचिका भी दायर है। पहला सबसे बड़ी समस्या शहर से निकले कूड़ों का निस्तारण। यानि ठोस अपशिष्ट प्रबंधन। जिसके लिए वर्षों से नगरपालिका ने जमीन तक चिन्हित नहीं कर पायी है। इस मामले में वेन्ट्रंस फोरम ने पहले एनजीटी में याचिका दाखिल कर चुका है। जिसमें नगर निगम के मुख्य अधिकारी पर एक लाख प्रति माह जुर्माना के तौर पर वसूल करने और अफसर पर एंडवर्स रिपोर्ट दर्ज करने के लिए जिला जज को आदेशित है। इस मुद्दे को डीएम ने गंभीरता से लिया।
जुर्माना की राशि से चिल्ड्रेन पार्क को इको बनाने पर चर्चा
टीम ने कहा कि जो जुर्माना की राशि वसूल की जाये उस राशि से चिल्ड्रेन पार्क को इको पार्क के रुप में विकसित की जा सकती है। यह राशि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को वसूल करनी है। इस आइडिया की डीएम ने सराहना की और पहल करने की बात कही। वहीं दूसरी समस्या शहर से सटे प्रभुनाथ नगर,उमानगर,शक्तिनगर समेत अन्य मुहल्ले सालों भर जलजमाव से जुझता है। इसके लिए कमेटी गठित की जानी थी। प्रोजेक्ट भी प्रस्तावित था। जो लंबित है। इस पर डीएम ने संबंधित कागजात देखकर पहल शीघ्र कराने की बात कही। वहीं खाद्य उपभोक्ता कानून को पूर्णत: लागू करने के मुद्दों को रखा गया। इसमें जिला से लेकर पंचायत स्तर पर निगरानी के लिए समिति गठित करने की बात कही गई। जिसमें जिले में अनुपालन नहीं हो रहा है।

डीएम से मिलने के लिए 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल पहुंची
विदित हो कि महासचिव डॉक्टर बीएनपी सिंह के साथ 4 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल, छपरा के जिला समाहर्ता से उनके कार्यालय कक्ष में छपरा की समस्याओं की जानकारी देने और इन समस्याओं के निदान के लिए मिला। प्रतिनिधिमंडल के सदस्य के रूप में सेवानिवृत्त प्रोफेसर डॉ मृदुल कुमार शरण, रोटरी क्लब छपरा के अध्यक्ष अमरेंद्र कुमार सिंह और छपरा जिला सैनिक कल्याण संघ के महासचिव रमेश कुमार सिंह ने छपरा की विभिन्न समस्याओं को समाहर्ता को अवगत कराया। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करते हुए वेटरन्स फोरम फॉर ट्रांसपेरेंसी इन पब्लिक लाइफ़ के महासचिव डॉक्टर बीएनपी सिंह ने मुख्य रूप से छपरा की तीन समस्याओं को समाहर्ता महोदय के सामने रखा और उनके कार्यान्वयन के लिए कुछ सुझाव दिये।

इन मुद्दों काे भी रखा गया,चर्चा हुई: छपरा शहर के सफाई के क्रम में निकले ठोस अपशिष्ट के निस्तारण करने के लिए, साथ ही इस कार्य के लिए भूमि अधिग्रहण के लिए भी सटीक सुझाव दिए गए। दूसरी समस्या सालोभर जलमग्न रहने वाले उमानगर,प्रभुनाथ नगर से जल निकासी और उसके साफ सफाई की व्यवस्था को भी सुनिश्चित करने के बारे में निवेदन किया गया। वहीं तीसरी समस्या के रुप में फूड सिक्रुरिटी एक्ट से संबंधित बातों को रखी गई। सरकारी राशन की दुकानों में व्याप्त अनियमितताओं के बारे में भी जानकारी दी गई और निवेदन किया गया कि सरकारी राशन की दुकान के आबंटन के समय सेवानिवृत्त सैनिकों को प्राथमिकता दी जाए।

आवश्यक निर्देश देने का आश्वासन
डॉ बीएनपी सिंह इन तीनों काम को सुचारू ढंग से कराने के लिए अपने स्तर से तीन प्रभारी बनाएं। कचरा अपशिष्ट प्रबंधन के लिए डॉ मृदुल शरण, उमानगर जलजमाव की समस्या के लिए रोटरी क्लब के अध्यक्ष अमरेंदर सिंह , फूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत सही से काम कराने के लिए रमेश कुमार सिंह को अधिकृत किया, और कहा कि मेरे बिहार में यह लोग काम करेंगे और तीनों काम की देखरेख करेंगे।

प्रभुनाथ नगर से ओवर ब्रिज के समानान्तर नाले में निकालने का है निर्देश
सांसद रुडी ने अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करते हुए उच्च शक्ति का पम्प लगाकर पानी को प्रभुनाथ नगर से ओवर ब्रिज के समानान्तर नाले में निकालने का निर्देश दिया था। इससे जल जमाव वाले इलाकों में त्वरित राहत मिल सकेगी। अधिकारियों ने भी इन इलाकों को जल जमाव से मुक्त करने के लिए तेज कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था। विदित हो कि शहर में केंद्र की 230 करोड़ की राशि के साथ ही राज्य सरकार से भी 30 करोड़ की राशि स्वीकृत कराई गई थी। इसके साथ ही 550 करोड़ की लागत से प्रभुनाथ नगर टांढ़ी पथ के टी प्वाईंट से छपरा मढ़ौरा पीडब्लूडी पथ एवं पक्की नाली की भी योजना है। 30 करोड़ की योजना का कार्य शुरू भी हो गया है वहीं कोविड के वैश्विक संकट के कारण अन्य योजनाएं रुकी हुई है। संभावना है कि कोरोना संकट के समाप्त होते ही अक्टूबर नवम्बर से योजना पर अमल शुरू हो जायेगा। अब बिन मौसम बरसात के कारण शहर के प्रभुनाथ नगर और शक्ति नगर जैसे इलाकों में जल जमाव हो गया। दिल्ली में सांसद को जब इसकी सूचना प्राप्त हुई तब उन्होंने योजना से जुड़े बुडकों और पथ निर्माण विभाग के अधिकारियों को इसके निरीक्षण के लिए भेजा।

खबरें और भी हैं...