प्रशिक्षण देने समस्तीपुर जायेंगे शेखपुरा के 30 किसान:महंगे दरों पर बिकने वाले मोती की खेती की देंगे ट्रेनिंग, सिर्फ किसान ही ले सकेंगे भाग

शेखपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

समस्तीपुर जिला के दलसिंहसराय में मोती का खेती करने का प्रशिक्षण लेने इस जिला से 30 किसानों का दल जायेगा। इस बाबत जिला कृषि पदाधिकारी सह परियोजना निदेशक आत्मा शिवदत्त प्रसाद सिन्हा ने बताया कि इस माह के अंतिम सप्ताह से दलसिंहसराय में किसानों का राज्यस्तरीय पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हो रहा है। उन्होंने बताया कि इस राज्यस्तरीय प्रशिक्षण में महिला और पुरुष प्रगतिशील किसान लेने भेजे जाएंगे। अब तक इस प्रशिक्षण में भाग लेने वाले 10 किसानों को चयनित किया जा चुका है। जबकि 20 किसानों को अभी चिन्हित किया जाना बाकी है।

उन्होंने बताया कि ओडिसा की पर्ल फाउंडेशन नामक संस्थान मोती की खेती वहां करती है। जिसे राज्य सरकार से यहां संबद्धता प्राप्त है। उक्त फाउंडेशन के तहत दलसिंह सराय में मोती की खेती वृहत पैमाने पर की जाती है और संस्थान द्वारा इस राज्य के किसानों को प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रभारी परियोजना निदेशक ने बताया कि इस प्रशिक्षण में वैसे ही चिन्हित किसान भाग लेंगे ।जिन्हे इस जिला में अपना तालाब है और वे यहां तालाबों में मछली पालन किया करते है।

उन्होंने कहा कि मछली पालन की तरह ही तालाबों में मोती उत्पादन करने वाले शीपों ( सितुआ) का पालन किया जाएगा। जिसके पालन शुरू करने के एक साल बाद शिप से मोती का उत्पादन किया जा सकता है।उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में मोती की मांग माला और अंगूटी बनाने में काफी है। इसकी खेती से किसानों को अधिक नकदी मुनाफा इसके व्यवसाय से हो सकता है।जिसके कारण किसानों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होने के साथ साथ खुशहाल हो सकती है। परियोजना निदेशक ने बताया कि जिले से प्रशिक्षण में भाग लेने जाने वाले किसानों को आने जाने और वहां ठहरने के अलावा भोजन नाश्ता की व्यवस्था सरकार की तरफ से की जायेगी।

खबरें और भी हैं...