पहल:बेलवा स्कीम किसानों के लिए कारगार होगा

सीतामढ़ी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शिवहर में निर्माणाधीन बेलवा हेड रेगुलेटर  सह स्लुइस गेट। - Dainik Bhaskar
शिवहर में निर्माणाधीन बेलवा हेड रेगुलेटर सह स्लुइस गेट।

जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि नदियों के अधिशेष जल को दूसरी नदियों में स्थानांतरित करने के उद्देश्य को प्राप्त करने की दिशा में शिवहर जिला स्थित बेलवा धार स्कीम एक कारगर कदम साबित होने जा रही है। बागमती नदी के अधिशेष जल को जिला के पिपराही प्रखंड के बेलवा स्थल से पुरानी बागमती धार बेलवा मीनापुर लिंक चैनल के माध्यम से मुजफ्फरपुर जिला अंतर्गत मीनापुर प्रखंड के बूढ़ी गंडक नदी में प्रवाहित किया जाना है। इसके लिए इस धार को पुनर्जीवित कर चैनल के दोनों ओर तटबंध का निर्माण एवं बेलवा स्थल पर हेड रेगुलेटर निर्माण किया जाना है। नदी को नदी से जोड़ने की अवधारणा के अनुरूप दो नदियों को रूपांकित जलस्त्राव के तहत प्रवाहित करने की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम होगा। दो चरणों में पूरी होने वाली इस योजना के पहले चरण बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज 4 ए होने के अंतर्गत 139.02करोड़ की लागत से राशि से बागमती नदी के दाएं तट पर बेलवा के नजदीक हेड रेगुलेटर का निर्माण बांध का निर्माण एवं प्रोटेक्शन का कार्य कराया जा रहा है।

इसके अंतर्गत हेड रेगुलेटर का असैनिक कार्य लगभग पूरा कर लिया गया है। यांत्रिक कार्य कराया जा रहा है । इसे वर्ष 2022 के अंत तक पूर्ण करने का लक्ष्य योजना की संकेत समेकित भौतिक प्रगति 79 फीसदी है। वहीं द्वितीय चरण बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना पेज 5 बी के अंतर्गत धार को पुनर्जीवित कर तटबंध का निर्माण कराना जाना है। जिसके लिए विस्तृत योजना प्रतिवेदन तैयार की जा रही है ।बाढ़ के दौरान बागमती नदी का जलस्तर में वृद्धि होने की स्थिति में बाढ़ का पानी शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर जिला में फैल जाता है तथा जान माल की व्यापक पैमाने पर क्षति होती है हेड रेगुलेटर निर्माण से बाढ़ अवधि में आवागमन भी संभव हो सकेगा पूरी योजना के पूर्ण होने के फलस्वरूप क्षेत्र में बाढ़ से बचाव के साथ-साथ सिंचाई की भी सुविधा उपलब्ध कराई जा सकेगी।

खबरें और भी हैं...