सीतामढ़ी में राजद कार्यकर्ताओं ने जताया विरोध:कहा- प्रधानमंत्री को लालू परिवार से लगता है डर, इसीलिए 15 साल बाद कराई जा रही रेड

सीतामढ़ीएक महीने पहले
अपनी बात रखते राजद नेता।

सीतामढ़ी जिले के राजद नेताओं और कार्यकर्ताओं ने सीबीआई के द्वारा लालू प्रसाद यादव के ठिकानों पर छापामारी और 15 वर्ष के बाद एफआईआरदर्ज करने को लेकर नाराजगी व्यक्त करते हुए विरोध जताया है। इसको लेकर राष्ट्रीय जनता दल सीतामढ़ी के द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई। इस दौरान पूर्व सांसद डॉक्टर अर्जुन राय, बाजपट्टी विधायक मुकेश लाल यादव, सीतामढ़ी नगर के पूर्व विधायक सुनील कुशवाहा और जिलाध्यक्ष मोहम्मद सफी खान समेत अन्य राजद नेता और कार्यकर्ता शामिल रहे।

राजद नेताओं ने कहा आज सियासी, साजिश के तहत बार-बार लालु परिवार को तंग और तबाह किया जा रहा है। राजद कार्यकर्ताओं ने कहा मोदी सरकार में ईडी एवं सीबीआई का दुरूपयोग किया जा रहा है। बार-बार लालु प्रसाद यादव के परिवार को तंग और परेशान करने राजद की शक्तियों को तोड़ने के लिए उच्च स्तरीय साजिश की जा रही है। ताकि लालु प्रसाद यादव और तेजस्वी प्रसाद यादव नमस्तक हो जाए। किंतु ना झुकेंगे और ना डरेंगे। आज महंगाई बेरोजगारी भ्रष्टाचार चरम पर है।

वही बताया कि लगातार 17 ठिकानों पर छापेमारी करने पर भी ना तो कोई संपत्ती मिला और नही कोई कागजात। लगभग 15 साल पुराने मामले को लेकर छापेमारी एवं एफआईआर पर जनता के मन में कई सवाल पैदा हो रहा है। कहा 15 साल से सीबीआई चुप क्यों बैठी थी। सीबीआई को 15 साल बाद एफआईआर दर्ज करने की आवश्यकता क्यों हुई। लालु प्रसाद यादव के बाहर रहने से भारत के प्रधानमंत्री डर रहे हैं। और तेजस्वी प्रसाद यादव की बढ़ती लोकप्रियता से भाजपा घबड़ा रही है।

सभी ने कहा की पुरे देश और दुनिया जानती है, कि जिस लालु जी ने रेल मंत्री काल में 90 हजार करोड़ का मुनाफा दिया, लाखों युवाओं के लिए रेलवे में भर्ती निकाल कर नौकरी दिया, कुलियों को स्थाई नौकरी दी है। वही कहा कि लालू ने जो किया उसके विपरीत मोदी और शाह ने रेल को बेच दिया। 72000 पदों को समाप्त कर दिया।

खबरें और भी हैं...