सख्ती:गोदाम से लौटाया गया 1740 क्विंटल खराब चावल

सीवानएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोदाम पर निरीक्षण करते एसएफसी प्रबंधक व अन्य - Dainik Bhaskar
गोदाम पर निरीक्षण करते एसएफसी प्रबंधक व अन्य
  • 30 जून तक तय की गयी है चावल लेने की तारीख, चावल देने में आनाकानी कर रहे है मिल संचालक

बिहार राज्य खाद्य निगम से निबंधित निजी राईस मिलों से सीएमआर गोदामों पर घटिया चावल पहुंचने लगा है। इसकी शिकायत मिलने के बाद विभाग सख्त हो गया है। इसकी जांच लगातार चल रही है ताकि अच्छी गुणवत्ता का चावल गोदामों पर लिया जा सके। अब तक दो दिनों के अंदर छह राइस मिलों का 1740 क्विंटल यानी छह लॉट सीएमआर चावल की गुणवत्ता खराब पाये जाने पर लौटा दिया गया है। पैक्सों में खरीदे गए धान की चावल राइस मिलों से तैयार कराकर एसएफसी को उपलब्ध कराया जाता है। इसमें कुछ राइस मिलों के संचालकों के द्वारा घटिया किस्म के चावल गोदामों पर तैनात कर्मियों की मिली भगत से गिराया जा रहा है। इसकी शिकायत लगातार विभाग को मिल रही थी। इसके बाद ही जांच शुरू की गयी है। इसके पूर्व के वर्ष में भी सदर एसडीओ ने गोदामों का निरीक्षण कर चावल खराब पाये जाने पर वापस करा दिया था। वहीं पीडीएस दुकानों पर भी खराब सीएमआर चावल पहुंचने के मामले में जांच हुई थी। बिहार राज्य खाद्य निगम के जिला प्रबंधक अमरेंद्र कुमार सिन्हा के द्वारा चयनित गोदामों पर पहुंचकर सीएमआर चावल से लदी ट्रकों की जांच की जा रही है।

छह का लौटाया जा चुका है घटिया चावल
बताते चलें कि बिहार राज्य खाद्य निगम के प्रबंधक ने अपने निरीक्षण के दौरान गोदामों पर पहुंचे सीएमआर चावल से लदे ट्रकों का जांच की। जांच के बाद घटिया गुणवत्ता का चावल मिलने पर महाराजगंज के रढ़िया स्थित किसान राइस मिल सहित छह राइस मिलों के ट्रकों का चावल अस्वीकृत कर दिया है। इसके जगह पर गुणवक्तायुक्त चावल देने को सभी राइस मिल संचालकों को निर्देश दिया गया है। इसमें किसान राइस मिल का चावल की गुणवक्ता सबसे अधिक खराब पाया गया था। शनिवार को चांप ढाला स्थित गोदाम पर श्याम रतन, गम्हरिया गोदाम पर किसान राइस मिल व नरेंद्रपुर में समृद्धि राइस मिल का चावल मानक के अनुरूप नहीं पाए जाने पर अस्वीकार कर दिया गया। वहीं जीरादेई के नरेंद्रपुर स्थित गोदाम पर एक ट्रक खाड़ा पाया गया। जहां चालक मौजूद नहीं था और ना कोई उसका कागजात पाया गया। शुक्रवार को हुए जांच में नरेंद्रपुर स्थित गोदाम पर दो लॉट चावल अस्वीकृत किया गया था। इसमें करोम पैक्स राइस मिल के अमरपुर पैक्स का एक लॉट और सबसे पहले एक लॉट मीरा मिनी राइस मिल के जिगरहवा पैक्स का लौटाया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...