चोरी की वारदात:1 साल में हुई 350 घटनाओं में नाबालिगों की ज्यादा संलिप्तता, फुटेज में भी चेहरे

अमन श्रीवास्तव | सीवानएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में मोबाइल चोरी की घटना को अंजाम देता चोर, सीसीटीवी में कैद। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में मोबाइल चोरी की घटना को अंजाम देता चोर, सीसीटीवी में कैद।
  • चोरी 120, 30 हत्या, सौ से ज्यादा बाइक चोरी, 80 मारपीट व मोबाइल चोरी
  • अभिभावकों को बच्चाें के साथ बैठकर करनी चाहिए बात : पुलिस अधीक्षक

जिले में नाबालिगों के कदम अपराध की दुनिया में तेजी से बढ़ रहे हैं। एक साल में जिले में हुई विभिन्न घटनाओं में सबसे अधिक नाबालिग शामिल हैं। अपराध चाहे जो हो वारदात के बाद जांच में ज्यादातर नाबालिगों के नाम सामने आते हैं। कई घटनाओं में सीसीटीवी फुटेज में भी इसी तरह के चेहरे दिखे हैं। दर्जनों मामलो में पुलिस को सुराग हाथ नहीं लगी लेकिन शहर में लूट के एक-दो मामलों में नाबालिग अपराधिओं की गिरफ्तारी हुई थी। इसके बाद यह स्पष्ट हो पाया कि नाबालिगों की टीम इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रही है। शहर में ज्वेलरी दुकान में लूट, ग्रामीण बैंक लूट, रघुनाथपुर में ज्वेलरी दुकान की लूट, महिलाओं से लूटपाट, छिनतई, घरों में चोरी, स्टेशन जा रहे यात्रियों को हथियार दिखाकर लूटपाट जैसे सभी कांडों में नाबालिगों की संलिप्तता सामने आयी है। जानकारी के अनुसार अपराध को अंजाम देने के लिए अपराधी दोस्तों के सहारे सभी जानकारी इकट्‌ठा करते हैं, फिर गिरोह बनाकर घटना को अंजाम देते हैं। इसको लेकर एसपी ने कहा कि अपराध करनेवालों को बक्शा नहीं जाएगा। हालांकि नाबालिग जिस रफ्तार के साथ इस ओर कदम बढ़ा रहे हैं यह चिंता का विषय है। माता-पिता को जागरूक होने की जरूरत है।

लूट व हत्या की वारदातों में भी नाबालिगों की संख्या ज्यादा
एक साल में जिले के सभी थानों के आंकड़ों के मुताबिक चोरी 120 से ज्यादा, 20 से 30 हत्या, सौ से ज्यादा बाइकों की चोरी, 80 से ज्यादा मारपीट, सैकड़ों मोबाइल चोरी, दस से ज्यादा सीएसपी संचालकों से लूट की घटनाओं को अंजाम देने में शामिल अपराधियों में किशोरों की संख्या ज्यादा है। नगर थाना क्षेत्र के कसेरा टोली मोड़ के समीप ज्वेलरी दुकान में लूट की घटना को अंजाम देने वाले सभी अपराधियों की उम्र लगभग 14 से 27 वर्ष थी। दूसरी घटना दाहा नदी पुल के समीप मॉल में चोरी की है। वहां चोरी की घटना को अंजाम देने वाले सभी युवा थे। उनकी उम्र 25 से कम थी। तीसरी घटना रघुनाथपुर ज्वलेरी की दुकान में दिनदहाड़े लूट की है। इसमें अपराधियों की उम्र 28 साल के अंदर थी। रामराज्य मोड़ स्थित उत्तर ग्रामीण बैंक में लूट में शामिल सभी अपराधी 20 साल से भी कम उम्र के थे। तेलहट्टा बाजार में रात में गश्ती कर रहे पहरेदारों ने दुकान में चोरी कर रहे दो युवकों को पकड़ा था। पूछताछ के दौरान दोनों ने बताया कि अगले दिन गर्लफ्रेंड का बर्थडे है। उनकी उम्र 17 साल थी।

इन मामलों में नाबालिगों की हुई गिरफ्तारी
कसेरा टोली मोड़ स्थित ज्वेलरी दुकान में लूट की घटना में शामिल नौ नाबालिगों की गिरफ्तारी हुई है। रघुनाथपुर लूट मामले में आरोपी सात नाबालिग गिरफ्तार हुए हैं। बैंक लूटकांड में गिरफ्तारी नहीं हुई है। इसी तरह शहर के चौक-चौराहों पर बाइक चोरी, महिलाओं से पर्स छिनतई, स्नेचिंग या बैंक से ब्लेड मारकर पैसा निकालने वालों पर कार्रवाई नहीं हुई है। चार दिन पूर्व बबुनिया मोड़ पर महिला का पर्स छीनकर भाग रहे एक नाबालिग को स्थानीय लोगों ने पकड़ लिया और पिटाई कर दी।

अपराध किसी भी उम्र में करें, उसे सलाखों के पीछे जाना होगा। कई घटनाओं में शामिल नबालिगों को जेल भेजा गया। कम उम्र के बच्चे ज्यादा अपराध की घटनाओं में सम्मिलित हैं। इसको लेकर पुलिस के साथ-साथ परिवार के लोगों को भी बच्चों के साथ बैठकर बातचीत करने की जरूरत है।
शैलेश कुमार सिन्हा, एसपी, सीवान।

खबरें और भी हैं...