प्राथमिक विद्यालय में बच्चों से लकड़ी ढुलवाते दिखे मास्टर जी:विद्यालय में शिक्षा नहीं, मासूमों से कराई जा रही मजदूरी; DEO ने मांगा स्पष्टीकरण

सीवानएक महीने पहले

सीवान के पंचरुखी प्रखंड के राजकीयकृत प्राथमिक कन्या विद्यालय, गोपालपुर के शिक्षक मासूम बच्चों से मजदूरी करवा रहे हैं। ताजा मामला मंगलवार सुबह का है, जब विद्यालय लगने के बाद सभी बच्चे अपने-अपने कक्षा में शिक्षा ग्रहण कर रहे थे। उसी बीच विद्यालय के मास्टर जी ने इन बच्चों को लकड़ी ढुलाई के काम पर लगा दिया। तस्वीरों में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने पहुंचे छोटे-छोटे मासूम बच्चों के हाथ में स्लेट-पेंसिल की जगह विद्यालय परिसर में लकड़ियां ढुलाई जा रही हैं। हालांकि विद्यालय प्रशासन की लापरवाही की पूरी वारदात मोबाइल कैमरे में कैद होते देख गुरुजी ने बच्चों को डांट-फटकार कर वहां से कक्षा में खदेड़ दिया। जबकि इस बारे में विद्यालय के शिक्षक टालमटोल करते दिखे।

विद्यालय में मिड-डे-मील के लिए लाई जाती है लकड़ियां

बच्चों को मिड-डे मील के लिए मिट्टी की चूल्हे पर भोजन पकाने के लिए लकड़ी की आवश्यकता पड़ती है। जानकारी के अनुसार मंगलवार की सुबह मिड डे मील भोजन पकाने के लिए लकड़ियां नहीं थी। इसके बाद शिक्षकों द्वारा पास के आरा मशीन से ट्रैक्टर पर लादकर लकड़ियों को विद्यालय परिसर में गिराया गया। हालांकि लकड़ियां को उठाकर किचेन में पहुंचाने के लिए मजदूरों की आवश्यकता थी। जिसके बाद विद्यालय के मास्टर साहब मासूम बच्चों को ही मजदूर बनाकर लकड़ी ढुलाई का काम शुरू करा दिया। बताया जाता है कि जो मासूम बच्चे लकड़ी को उठाकर किचेन में पहुंचा रहे थे, वह सभी पहली से लेकर दूसरी तक के छात्र थे।

क्या करते हैं जिला शिक्षा पदाधिकारी

सीवान के जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में लाया गया है। संबंधित विद्यालय के प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण की मांग की गई है। मामले की जांच कराई जा रही है। जांच सिद्ध होने पर संबंधित दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...