सीवान में ईवीएम सुरक्षाकर्मियों की जिंदगी डर में:एकता इनडोर स्टेडियम में रखे गए हैं पुराने ईवीएम, सांप काटने और बिल्डिंग गिरने का डर

सीवान2 महीने पहले
इन्हीं ईवीएम की सुरक्षा में बैठे कर्मी।

सीवान शहर के एकता इनडोर स्टेडियम की हालत अनदेखी के अभाव में इन दिनों काफी खस्ता हो चुका है। जर्जर की स्थिति में मौत को दावत दे रहा यह स्टेडियम अपनी हालात पर आंसू बहा रहा है। यहां चुनाव में प्रयोग होने वाले सैकड़ों की संख्या में ईवीएम को सुरक्षित के लिहाजे से रखा गया है। बकायदा यहां 2 सुरक्षाकर्मी पिछले छह माह से 24 घंटे दिन-रात ईवीएम की सुरक्षा में मुस्तैदी के साथ लगे हुए है। लेकिन वही सुरक्षाकर्मी आज डर के साए में जीने को मजबूर है। जर्जर हो चुका इंडोर स्टेडियम का छत कब काल बनकर उनके ऊपर गिर जाएगा इसकी उन्हें हमेशा चिंता बनी रहती है।

स्टेडियम में रहनेवाले सुरक्षाकर्मी।
स्टेडियम में रहनेवाले सुरक्षाकर्मी।

गौरतलब है कि सीवान जिले में स्थित एकता इनडोर स्टेडियम का उद्घाटन साल 1998 में बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री राबड़ी देवी तथा लालू प्रसाद यादव के द्वारा किया गया था। यहां जिले में होने वाले चुनाव को लेकर सैकड़ों की संख्या में ईवीएम बक्से में बंद कर रखे गए है। जिले में चुनाव के वक्त यहां से ईवीएम बूथ पर भेजा जाता है। ईवीएम की सुरक्षा में दो सुरक्षाकर्मियों को भी तैनात किया गया है लेकिन सुरक्षाकर्मियों को भी अब डर सता रहा है की कहीं क्षतिग्रस्त बिल्डिंग का हिस्सा टूटकर ना गिर जाए या खंडहर से कहीं सांप निकल कर ना आ जाए और उन्हें काट ले।

भवन का जर्जर हिस्सा।
भवन का जर्जर हिस्सा।

करीब 6 महीने से जर्जर छत के नीचे ड्यूटी दे रहे सुरक्षाकर्मी

ड्यूटी में मुस्तैद सुरक्षाकर्मियों ने बताया कि वह करीब 6 महीने से यहां ड्यूटी कर रहे हैं। यहीं पर रहना और खाना भी होता है। बिल्डिंग की दीवारें टूट-टूट कर गिर रही है। डर लगता है कि कभी कोई दीवार का बड़ा हिस्सा सर पर ना गिर पड़े। अगर कोई बिल्डिंग का बड़ा हिस्सा सर पर गिरता है तो गंभीर रूप से इंसान घायल हो जाएगा। या उसकी मृत्यु हो जाएगी। यहां काफी जंगल झाड़ है जिसके कारण लगातार यहां सांप निकलते रहते है। उनके बीच सांप बिच्छू काटने का हमेशा डर बना रहता है। बताया कि खंडहरों में तब्दील होता जा रहा एकता इनडोर स्टेडियम परिसर बरसात के दिनों में पानी से लबालब भर जाता है।