आक्रोश:4 युवकों की मौत से भड़का गुस्सा; काबू पाने के लिए पुलिस ने किया लाठीचार्ज तो लोगों ने बरसाए पत्थर

वीरपुर/बसन्तपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विश्वकर्मा पूजा देखकर लौट रहे चार युवकों को भीमनगर-वीरपुर इंडो-नेपाल बॉर्डर रोड पर बोलोराे ने रौंदा
  • महिला समेत आधे दर्जन लोग चोटिल, चार पुलिसकर्मी भी हुए घायल, 14 गिरफ्तार, आंसू गैस के गोले भी दागे गए

भीमनगर-वीरपुर इंडो-नेपाल बॉर्डर रोड पर शनिवार रात करीब साढ़े नौ बजे विश्वकर्मा पूजा देखकर लौट रहे चार युवकों की मौत के बाद दिन भर विरोध प्रदर्शन जारी रहा। जानकारी के अनुसार चारों युवक कटैया पावर हाउस से विश्वकर्मा पूजा देखकर एक ही बाइक पर सवार लौट रहे थे। इसी क्रम में वीरपुर-भीमनगर के बीच स्थित पॉपलर नर्सिंग होम के समीप भीमनगर की ओर से आती एक बोलोराे ने बाइक खड़ी कर सड़क पर खड़े हुए चारों युवकों को रौंद डाला। मोबाइल पर घटना की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष दीनानाथ मंडल दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और चारों घायलों की स्थिति को देखते हुए बेहतर उपचार के लिए सीधे सदर अस्पताल सुपौल भेज दिया। जहां सभी को मृत घोषित किए जाने के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। मृत युवकों की पहचान वीरपुर नगर पंचायत वार्ड 10 निवासी रवि कार्की (20 वर्ष), रितिक कुमार (22 वर्ष), रोहित थापा(21वर्ष) और वार्ड 13 निवासी रोहित ठाकुर (21 वर्ष)के रूप में की गई। रात में ही दुर्घटना की सूचना मिलने पर मृत परिजन के साथ स्थानीय लोग उग्र हो गए और कहने लगे कि घायलों को अस्पताल नहीं लाकर सीधे सदर अस्पताल भेज दिया गया। अगर स्थानीय अस्पताल में इलाज कराने लाया जाता तो उन घायलों में से किसी की जान बच भी सकती थी। लोगों का यह भी आरोप था कि लाश जिस स्थिति में मिली है, उससे लगता है कि हत्या करके वहां रखी गई है। आक्रोशित लोगों ने रात में ही हंगामा शुरू कर दिया। जहां सुबह होते-होते वीरपुर के गोल चौक से निकलने वाली पांच रास्तों को बांस और बल्ला लगाकर बंद कर दिया गया। इसके बाद टायर जलाकर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया। जहां देखते ही देखते हजारों की संख्या में पहुंचे लोगों मे से कुछ ने वीरपुर मुख्य बाजार की दुकानें भी बंद करा दी। वीरपुर-भीमनगर मुख्य रास्ते को अवरुद्ध कर दिया गया।

पुलिस ने शुरू की धड़पकड़
जिस क्रम में पुलिस व प्रशासन द्वारा एसएसबी के जवानों को भी बुलाकर सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया है। देखते ही देखते पूरे शहर की नाकेबंदी करते हुए पुलिस और एसएसबी ने छावनी में बदल दिया। सर्च ऑपरेशन के दौरान समाचार लिखे जाने तक एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया था। एसएसबी और पुलिस द्वारा कोसी कॉलोनी आई टाइप और उसके आसपास के इलाकों में छापेमारी की जाने लगी। घटना को लेकर पुलिस प्रशासन कार्रवाई के मूड में दिख रही है। जिससे आमलोग दहशत में हैं।

महिलाओं ने की हाथापाई तो पुलिस ने किया लाठीचार्ज
रविवार की सुबह करीब 06 से 11 बजे तक कई चरणों में स्थानीय आक्रोशित लोगों का जत्था थाने के मुख्य द्वार के समीप पहुंचकर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी करती रही। इस बीच प्रशासन और पुलिस स्थिति की गंभीरता को देखते हुए एसडीएम कुमार सत्येंद्र यादव, एसडीपीओ पंकज कुमार मिश्रा, आरडीओ कुमार मनीष भारद्वाज, नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी किशोर कुणाल, सर्किल इंस्पेक्टर केबी सिंह, त्रिवेणीगंज एसडीपीओ गणपति ठाकुर सहित कई थानों की पुलिस, दंगा निरोधी दस्ता की टीम मौके पर पहुंच गई। करीब साढ़े 11 बजे मृतकों के महिला परिजन थाने के समक्ष उग्र भीड़ के साथ पहुंचीं तो आक्रोशित लोगों ने पुलिस के विरुद्ध जमकर नारे लगाने शुरू कर दिए। आक्रोशित महिला पुरुष नारेबाजी कर रहे थे। इसी दौरान पीड़ित महिला ने पुलिस से हाथापाई शुरू कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए बल प्रयोग करते हुए लाठी चार्ज शुरू कर दिया। इस लाठी चार्ज में महिला सहित आधे दर्जन लोगों को चोटें आई।

सड़क हादसे में हुई चारों की मौत: जिलाधिकारी
करीब ढाई बजे जिला पदाधिकारी कौशल कुमार और एसपी डी अमरकेश भी घटना को लेकर वीरपुर थाना पहुंचे एवं अधिकारियों से घटना की जानकारी ली। इसके बाद डीएम श्री कौशल ने कहा कि दुर्घटना में चार युवक की ऑन स्पॉट मौत हो गई। हत्या जैसी कोई बात नहीं है। यह घटना पूरी तरह से सड़क हादसा है। चारों युवक बाइक खड़ी कर सड़क पर खड़े थे और एक बोलेरो की चपेट में आ गए। जिससे सभी की मौत हो गई। मामले को लेकर अनावश्यक कुछ लोगों ने भड़काने का प्रयास किया है। थाने में पत्थरबाजी की गई है। जिसमें चार जवान और सिपाही को चोटें आई है। संपत्ति का भी नुकसान हुआ है। घटना का सीसीटीवी फुटेज उपलब्ध है और सभी लोग चिह्नित भी किए जा चुके हैं। 14 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है। भीड़ को उकसाने में तनवीर आलम, लालमोहन रस्तोगी और बबन सिंह का नाम है। चिह्नित लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...