आंधी-पानी से बर्बादी:पांच दर्जन परिवारों के उजड़े घर-द्वार, 28 हजार लोगों की 24 घंटे से बिजली बाधित

सुपौल5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आंधी में सड़क किनारे टूटा बिजली का पोल। - Dainik Bhaskar
आंधी में सड़क किनारे टूटा बिजली का पोल।
  • जिले में शनिवार को 36 एमएम हुई बारिश, 70 किमी की स्पीड से चली हवा

जिले में शुक्रवार की शाम एवं शनिवार की सुबह विभिन्न हिस्से में आए तेज आंधी एव बारिश ने भारी तबाही मचाई है। इससे जिले में शनिवार को 36 एमएम वर्षापात रिकॉर्ड की गई। जबकि हवा की रफ्तार शनिवार की सुबह भी कुछ हिस्सों में 70 किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक रही। इधर, अगवानपुर स्थित अनुसंधान केन्द्र के कृषि मौसम वैज्ञानिक अशोक पंडित ने कहा कि जिले में 18 मई तक आंधी एवं बारिश की संभावना है। इधर, शुक्रवार की देर शाम एवं शनिवार के अहले सुबह आई तेज आंधी ने जिला मुख्यालय सहित सदर प्रखंड के ग्रामीण इलाकों में भारी तबाही मचाई है। आंधी में करीब 05 दर्जन परिवारों का घर उजड़ गए। साथ ही करीब 200 से अधिक फलदार एवं लकड़ी के पेड़ सहित एक दर्जन से अधिक बिजली के खंभे धराशायी हो गए। मल्हनी पंचायत के पुर्नवास में 1 लाख 32 हजार केवी एवं वार्ड 07 में 33 हजार केवी का हाईटेंशन तार गिरने से ग्रामीण क्षेत्रों के 10 फीडर का विद्युत आपूर्ति पिछले 24 घंटे से बाधित है। कई जगहों पर पेड़ व बिजली के खंभे व तार सड़क पर गिरने से आवागमन भी बाधित रहा। वहीं परसरमा- सिहेंश्वर चिकनी पथ स्थित मध्य विद्यालय के समीप सड़क पर पीपल की टहनी गिरने से शुक्रवार की शाम से लेकर शनिवार की सुबह 09 बजे तक आवागमन बाधित रहा। इसके अलावे सुपौल-परसरमा मुख्य मार्ग पर 03 अलग-अलग जगहों पर पेड़ गिरने से सुपौल-परसरमा मार्ग बाधित रहा। हालांकि देर रात वन विभाग के अधिकारी एवं स्थानीय ग्रामीणों द्वारा पेड़ को सड़क पर से हटाकर रास्ता को चालू किया गया। वहीं ग्रामीण इलाकों के परसरमा-सिहेंश्वर चिकनी पथ स्थित बरूआरी वार्ड 04-05 सहित गौठ बरूआरी में भी दो सड़कों पर करीब 200 मीटर तक एक फीट जलजमाव हो गया। जिस वजह से आवागमन भी प्रभावित रहा।

आंधी से उजड़े घरों के छप्पर।
आंधी से उजड़े घरों के छप्पर।

बिजली के कारण बंद रही कई दुकानें व सीएसपी

विद्युत आपूर्ति ठप हाेने से क्षेत्र में लोगों को काफी कठनाईयों को सामना करना पड़ा। क्षेत्र के अधिकतर दुकान सहित सीएसपी पूरे दिन बंद रहा। पूरे दिन बिजली विभाग के अधिकारी व कर्मी मरम्मती के कार्य में जुटे रहें। लेकिन दर्जनों जगहाें पर उखड़े बिजली के खंभे एवं जगह-जगह पर तार टूटने के कारण देर शाम तक भी आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी। 24 घंटे से अधिक तक विद्युत सेवा ठप रहने से विभाग को करीब 7 लाख रुपए से अधिक के राजस्व की क्षति हुई है। कार्यपालक अभियंता सौरव कुमार ने बताया कि आंधी में ग्रामीण क्षेत्र के 10 फीडर की आपूर्ति बाधित हो गई। जिससे क्षेत्र के करीब 28 हजार उपभोक्ता प्रभावित हुए है। तेज गति से मरम्मति का कार्य किया जा रहा है।

आंधी ​​​​​​​ -बारिश में 50 एकड़ से अधिक फसल की क्षति
तेज आंधी तूफान से ग्रामीण इलाकों में 200 से अधिक पेड़ धराशायी हो गए। वहीं करीब 50 एकड़ से अधिक में मकई, मुंग, गरमा धान सहित अन्य लगी फसल के क्षति का अनुमान है। वहीं तेज हवा के कारण आम लीची के फलों की भी काफी क्षति हुई है। सुखपुर स्थित मामा बाग आम बगीचा में मौजूद फल व्यापारी किशोर मुखिया ने बताया कि शुक्रवार की शाम शनिवार की सुबह आई तेज आंधी में 100 बीघा से अधिक क्षेत्रफल में लगे आम के बगीचे में 120 क्विंटल से अधिक आम के टिकुले झड़ गए। बताया कि करीब 5 लाख रुपए के फल की क्षति का अनुमान है। साथ ही उन्होंने बताया अबतक 03 बार बेमौसम आंधी तूफान,बारिश और ओलावृष्टी के कारण पेड़ में ही आम के फल सड़ने लगे है।

खबरें और भी हैं...