मतदाता दिवस:हमें गर्व है कि हमारा भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है : डीएम

हाजीपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मतदाता दिवस पर डीएम ने कहा कि आज ही के दिन 1950 में भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना की गयी थी। यह संस्था कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि देश के गणतंत्र बनने के एक दिन पूर्व इसकी नींव पड़ी। मतदाताओं को जागरूक करने, उन्हें सशक्त और सचेत बनाने के उद्देश्य से वर्ष 2011 से प्रतिवर्ष 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस का आयोजन किया जाता है। यह 13 वां आयोजन है। राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर समाहरणालय सभागार में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में उपस्थित सभी गणमान्य एवं पदाधिकारीगण को संबोधित करते हुए डीएम यशपाल मीणा ने कहा कि हमें गर्व है कि हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। उन्होंने कहा लोकतांत्रिक व्यवस्था में मताधिकार का सर्वाधिक महत्व होता है। मताधिकार प्रत्येक व्यस्क व्यक्ति का सबसे बड़ा और सशक्त हथियार है और प्रत्येक मतदाता को निर्वाचन के समय अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

इससे भारतीय लोकतंत्र को और मजबूती मिलेगी। डीएम ने कहा कि राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य मतदाताओं को जागरूक लोकतंत्र में सबकी भागीदारी सुनिश्चित कराना है। कार्यक्रम का प्रारंभ डीएम, एडीएम विनोद कुमार सिंह, डीडीसी चित्रगुप्त कुमार एवं राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के द्वारा के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर की गयी। इसके पश्चात् भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त के संदेश का प्रसारण कराया गया। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार करायी गयी गीत-"मैं भारत हूँ” को सुनवाया गया। इस अवसर पर जिला निर्वाचन शाखा द्वारा विधान सभा वार प्रत्येक प्रखंड से चयनित एक-एक बूथ लेबल अधिकारी (बीएलओ) को डीएम के द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। प्रथम बार मतदाता बने युवाओं को भी सम्मानित किया गया और शुभकामना दी गयी तथा अगले निर्वाचन में मताधिकारी का प्रयोग करने के लिए जागरूक किया गया।

स्लोगन : "वोट जैसा कुछ नहीं
समाहरणालय सभागार में उपस्थित लोगों को राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी किये गये स्लोगन- "वोट जैसा कुछ नही, वोट जरूर डालेंगे हम पर प्रकाश डालते हुए डीएम ने कहा कि मतदाता को जागरूक होना चाहिए उसे समझना चाहिए कि वोट क्यों जरूरी है। डीएम ने कहा कि राष्ट्र को सही सलामत चलाने के लिए यह पब्लिक ओपीनियन होता है। लोकतंत्र को जीवंत एवं सक्रिय बनाये रखने के लिए पूरा महकमा लगा हुआ है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति जागरूक होकर अपने मताधिकार का प्रयोग जरूर करें। उन्होंने कहा कि पहले पूरे साल में एक अर्हता तिथि निर्धारित होती थी अब प्रत्येक तीन माह पर मतदाता सूची में नाम जोड़वाने के लिए अर्हता तिथि निर्धारित हो रही है। सत्रह वर्ष पूरा कर चूके भावी मतदाताओं के लिए भी सुविधा दी जा रही है। इस मौके पर डीएम के साथ एडीएम, डीडीसी सहित जिला स्तरीय पदाधिकारी मौजूद रहें।

खबरें और भी हैं...