पूजा कर रहे 30 लोगों को ट्रक ने कुचला:8 की मौत; चश्मदीद बोला- पेड़ नहीं होता तो 50 मरते

पटना/वैशाली2 महीने पहले
हादसा रविवार रात करीब 9 बजे सुल्तानपुर गांव के पास हुआ। मरने वालों में सभी की उम्र 20 साल से कम है।

बिहार के वैशाली में सड़क किनारे पीपल के पेड़ के नीचे खड़े होकर पूजा कर रहे लोगों पर नशे में धुत एक ड्राइवर ने ट्रक चढ़ा दिया। इसमें 30 लोग जख्मी हो गए। 8 की मौके पर ही मौत हो गई। मरने वालों में 6 बच्चे हैं। लोगों ने बताया कि अगर पेड़ नहीं होता तो 50 से ज्यादा जानें जातीं।

पहले जानते हैं हुआ क्या
हादसा रविवार रात करीब 9 बजे सुल्तानपुर गांव के पास हुआ। पीपल के पेड़ के नीचे 60 से ज्यादा लोग भुंइया बाबा की पूजा करने जुटे थे। इस घटना के चश्मदीद अनुज कुमार राय बताते हैं कि पूजा लगभग पूरी हो चुकी थी। सब अपने-अपने घर लौटने वाले थे कि तभी हाजीपुर से महनार की तरफ जा रहा ट्रक लोगों को कुचलता चला गया और पेड़ से टकरा गया। अनुज के मुताबिक, अगर ट्रक पेड़ में नहीं टकराता तो कम से कम 50 से ज्यादा लोगों की मौत होती।

पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए...

ट्रक की 120 से ज्यादा थी रफ्तार
चश्मदीदों ने बताया कि ट्रक की रफ्तार कम से कम 120 किमी प्रति घंटा रही होगी। हादसे के बाद गैस कटर से ट्रक को काटकर मृतकों को निकाला गया। ज्यादातर बच्चे ट्रक और पेड़ के बीच में फंसे थे। मरने वालों की उम्र 8 से 20 साल के बीच है। मृतकों में वर्षा कुमारी (8), सुरुचि (12), अनुष्का (8), शिवानी (8) , खुशी (10), चन्दन (20), कोमल (10) और सतीश (17) शामिल हैं।

पहले उस ट्रक ड्राइवर की फोटो जिसने एक्सीडेंट किया

नशे में धुत ट्रक ड्राइवर की गुस्साए लोगों ने पिटाई की। बाद में पुलिस ने इसे अस्पताल पहुंचाया।
नशे में धुत ट्रक ड्राइवर की गुस्साए लोगों ने पिटाई की। बाद में पुलिस ने इसे अस्पताल पहुंचाया।
यह फोटो ट्रक ड्राइवर की है। उसके सिर और मुंह पर चोट लगी है।
यह फोटो ट्रक ड्राइवर की है। उसके सिर और मुंह पर चोट लगी है।

चश्मदीद- मेरी आंखों के सामने पोती की मौत हो गई
इस घटना के चश्मदीद अनुज कुमार राय बताते हैं कि नेवतन की पूजा लगभग पूरी हो चुकी थी। सब अपने-अपने घर लौटने वाले थे कि तभी हाजीपुर से महनार की तरफ जा रहा अनियंत्रित ट्रक लोगों को कुचलता चला गया। इसके बाद वो पीपल के पेड़ में टकरा गया। अनुज के मुताबिक, अगर ट्रक पेड़ में नहीं टकराता तो कम से कम 50 से ज्यादा लोगों की मौत होती।

हादसे में 8 साल की अनुष्का की भी मौत हो गई। अनुष्का के दादा राजकुमार ने बताया कि बाबा भुइयां की पूजा से पहले नेवतन का कार्यक्रम चल रहा था। सड़क के किनारे ही पीपल के पेड़ के पास गांव के लोग डाली लेकर खड़े थे। इसमें बच्चे, बुजुर्ग, महिला सभी शामिल थीं। 5.30 बजे पूजा शुरू हुई। 9 बजे लगभग ये समाप्त होने वाली थी। तभी ट्रक आया और यहां खड़े लोगों को कुचल दिया। मेरी आंखों के सामने पोती की मौत हो गई।

हादसे के फोटोज...

यह फोटो हादसे के बाद का है। शव सड़क पर बिखरे पड़े थे।
यह फोटो हादसे के बाद का है। शव सड़क पर बिखरे पड़े थे।
मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। लोग मदद के लिए आगे आए और घायलों को अस्पताल पहुंचाया।
मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। लोग मदद के लिए आगे आए और घायलों को अस्पताल पहुंचाया।
हादसे के बाद पूरे गांव में मातम पसर गया। किसी ने अपना बेटा खोया तो किसी ने पोता।
हादसे के बाद पूरे गांव में मातम पसर गया। किसी ने अपना बेटा खोया तो किसी ने पोता।

प्रधानमंत्री ने भी दुख जताया
PM मोदी ने भी घटना पर दुख जताया। मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपए मदद देने का ऐलान किया। घायलों को 50 हजार रुपए दिए जाएंगे। उधर, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी इस घटना पर शोक जताया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मृतकों के परिजन को 5-5 लाख रुपए मदद देने का ऐलान किया। साथ ही घायलों के इलाज के निर्देश दिए।

भुंइया बाबा की पूजा और नेवतन क्या है
गांव वालों ने बताया की भुंइया बाबा की पूजा यहां वर्षों से होती आ रही है। भुंइया बाबा की पूजा में धरती की पूजा की जाती है। मान्यता के अनुसार धरती ने ही लोगों को जीवन दिया, धरती ही लोगो का जीवन यापन करती है। धरती से ही उपजे अन्ना फल फूल को खा कर लोग जी रहे हैं। यहां तक कि मरने के बाद भी धरती यानी की मिट्टी में ही लोग समा जाते हैं। कुल मिला कर जीवन से मरण तक आदमी धरती से जुड़ा रहता है। लिहाजन इस गांव के लोग धरती यानी भुइयां बाबा की पूजा करते हैं। ​​​​​

नेवतन मतलब आमंत्रण। भुइयां बाबा की पूजा के एक दिन पहले शाम को धरती को आमंत्रण देने की प्रथा है। इसी प्रथा के अनुसार स्टेट हाईवे के बगल में पीपल के पेड़ के बगल में यह पूजा की जा रही थी। गांव के लोगों के साथ गांव के बच्चे भी इस पूजा को देख रहे थे। बच्चे सड़क किनारे खड़े थे।

8 शवों का एक साथ नदी के किनारे नयागंज के 28 टोला घाट पर अंतिम संस्कार किया गया।
8 शवों का एक साथ नदी के किनारे नयागंज के 28 टोला घाट पर अंतिम संस्कार किया गया।

50 साल में पहली बार भुइयां पूजा में भीषण हादसा

वैशाली के देसरी थाना का नया 28 टोला गांव। हर तरफ मातम पसरा है। आज जहां भुइयां बाबा की पूजा का उत्सव होना था। वहां एक साथ आठ चिताएं उठी हैं। ये सारी चिताएं गांव के होनहार भविष्य की है। इनमें 8 साल की वर्षा से लेकर 20 साल का चंदन शामिल है। ये सभी बच्चे मौत से अंजान रविवार शाम को गांव के सबसे पुराने पीपल के पेड़ के पास भुइयां बाबा की पूजा से पहले नेवतन की रिवाज में शामिल होने गए थे। उसी पेड़ में अब इनके मांस के लोथड़े चिपके हुए हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए

खबरें और भी हैं...