जन जीवन हरियाली अभियान:मनरेगा से हो रही नहर के चैनल की सफाई, मजदूर के बदले 1200 रुपए प्रति घंटा काम कर रही मशीन

राघोपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राघोपुर के देवीपुर पंचायत में मनरेगा योजना में कार्य। - Dainik Bhaskar
राघोपुर के देवीपुर पंचायत में मनरेगा योजना में कार्य।
  • देवीपुर पंचायत के गम्हरिया गांव में सहरसा उपशाखा नहर के दोनों किनारे हो रही भीसी की सफाई
  • एक दर्जन बाल मजदूरों से कार्य स्थल पर कुदाली चलवाकर पुनः समतल करवाया जाता

प्रखंड क्षेत्र के देवीपुर पंचायत के गम्हरिया गांव में सहरसा उपशाखा नहर के दोनों किनारे बनी भीसी में विगत 4-5 दिनों से मनरेगा कर्मियों द्वारा रात्रि के समय में जेसीबी मशीन से भीसी की खुदाई करवाई जा रही है। वहीं, जेसीबी मशीन के कार्य के निशान को मिटाने के लिए सुबह से ही करीब एक दर्जन बाल मजदूरों के द्वारा उक्त कार्य स्थल पर कुदली से पुनः समतल करवा दिया जाता है। खुलासा तब हुआ जब शनिवार की रात्रि करीब 11 बजे स्थानीय लोगों लोगों ने इस बात को देखा। जेसीबी मशीन से भीसी की सफाई करवाई जा रही थी। जहां लगभग सहरसा उपशाखा नहर के दोनों भाग में से पश्चिमी भाग में चिन्हित पूर्ण योजना और पूर्वी भाग से चिह्नित आधा से अधिक योजना का कार्य को पूर्ण कर लिया गया है। हद तो इस बात की भी देखी गई की उक्त कार्य स्थल पर कोई सूचना पट्ट भी नहीं लगाया गया है। कार्य स्थल पर ग्रामीणों के पहुंचने की सूचना पर कार्य करवा रहे मनरेगा पीआरएस मनोज कुमार सहित अन्य कर्मी वहां से भाग निकले।

जेसीबी चालक ने किया मशीन के प्रति घंटे रेट का खुलासा
ग्रामीणों ने बताया कि मनरेगा पीआरएस की देखरेख में काम करवाया जा रहा है। इससे पूर्व भी पंचायत में कई मनरेगा कार्य मशीन व ट्रैक्टर से करवाया गया है। उक्त स्थल पर पत्रकारों को वीडियोग्राफी करते देख स्थानीय पंसस कुमारी सिंज्ञानी के पति ओमप्रकाश मुखिया और जेसीबी चालक ने पहले बताया कि सिंचाई विभाग से कार्य चल रहा है। पुनः बताया कि नहर के दोनों किनारे मनरेगा से करीब 5 हजार फीट भीसी की सफाई का कार्य उसे करवाने दिया गया है। जेसीबी चलाने में दिक्कत होती है इसलिए रात्रि में कार्य करवा रहे हैं। वैसे पहली बार योजना खोले हैं उजागर मत कीजिए। ग्रामीणों ने बताया कि बीते तीन दिन से लगातार रात्रि के समय जेसीबी लगाकर कार्य करवाया जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि सूचना के बाद भी मनरेगा पीओ जांच में नहीं पहुंचे। जेसीबी चालक रंजीत कुमार ने बताया कि 1200 रुपये प्रति घंटा के हिसाब से भीसी सफाई कार्य करवाने हेतु देवीपुर पंसस पति ने भाड़ा पर मशीन मंगवाया है। ग्रामीणों का कहना है कि 5वीं से 8वीं तक के बच्चे सुबह-सुबह जेसीबी का निशान मिटाने के लिए कार्यस्थल को समतल करने में लगा दिये जाते हैं।

दिन के उजाले में मजदूर
दिन के उजाले में मजदूर

स्थल पर जबरन करवाया जा रहा जेसीबी से काम
मेरी अनुपस्थिति में पंसस पति के द्वारा कार्य करवाया गया है। उन्हें लगातार तीन दिन से मशीन से कार्य करवाने से मना किया जा रहा है। लेकिन वह जबरदस्ती योजना स्थल पर जेसीबी चलवा रहा है।
-मनोज कुमार, पीआरएस।

मामले की नहीं है खबर जांच कर होगी कार्रवाई
यह मामला मेरे संज्ञान में नहीं है। मनरेगा में मशीन से कार्य करवाना बिलकुल गलत है, और बाल मजदूर से कार्य नहीं करवाना है। अगर काम हुआ है तो उस योजना की जांच करवाई जाएगी।
-मुकेश कुमार, डीडीसी,सुपौल।

खबरें और भी हैं...