पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

झांकियां:सरकारी आदेशों की लेटलतीफी से झांकी पूजन तक सिमटी रामलीला

डेराबस्सी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
}जिला प्रशासन के ऑफिस में परमिशन लेने के लिए करें आवेदन...
  • मोहाली में सिर्फ अंकुश क्लब की तरफ से आज से शुरू किया जाएगा मंचन, निकाली झांकियां

पंजाब सरकार द्वारा कोविड-19 को लेकर गाइडलाइंस सहित एसओपी (स्टेंडर्ड ऑपरेटिव प्रोसिजर) जारी करने की लेटलतीफी के चलते पहली बार डेराबस्सी, मोहाल और जीरकपुर में रामलीला कमेटियां समेत हजारों दर्शक रामलीला मंचन से वंचित हो गए हैं। लेट जारी हुए आदेशों के चलते अब रामलीलाएं झांकी पूजन व आरतियों तक सिमट गई हैं, जबकि कुछ जगह पर श्री रामायण पाठ रखकर भोग डालने का कार्यक्रम है।

इसी लेटलतीफी के चलते दुर्गा पूजन व दशहरा समारोहों को लेकर भी आयोजकों में असमंजस का माहौल है। त्रिवेदी कैंप सहित डेराबस्सी में बीते 40 साल से रामलीलाओं का निर्विध्न आयोजन होता आया है। आतंकवाद के दिनों में इन 2 जगह पर रामलीला मंचन नहीं रुका, लेकिन इस बार कोविड-19 को लेकर एसओपी जारी करने में लेटलतीफी से रामलीलाएं नहीं हो पा रही हैं।

डेराबस्सी में रामलीला के 2 ही पक्के मंच हैं। इनमें रामलीला मैदान के मंच पर श्री रामलीला दशहरा कमेटी द्वारा झंडा रस्म के बाद रामलीला के बजाय सिर्फ आरती पूजन की रस्म अदा की गई। कमेटी के प्रधान वीरेंदर शर्मा के अनुसार गणेश जी की झांकी पेश की गई। जिसमें आरती पूजन की रस्म बतौर विशेष मेहमान कांग्रेसी नेता रणजीत रेड्‌डी, एडवोकेट चमन सैनी, एडवोकेट विक्रांत व लक्खविंदर लक्की ने अदा की।

दूसरा मंच सैनी म्युनिसिपल मंच है जिसमें उत्तरांचल रामलीला कमेटी ने केवल झंडा रस्म अदा की। कमेटी के प्रधान वासु शर्मा ने बताया कि सरकारी गाइडलाइंस के देरी से मिलने के कारण इस बार केवल मंच पर हर शाम आरती पूजन ही किया जा रहा है। श्री रामलीला प्रचार कमेटी मुबारिकपुर के सरपरस्त टोनी राणा के अनुसार उनके मंच पर भी केवल आरती पूजन की रस्म ही अदा की जा रही है। त्रिवेदी कैंप में श्री सनातन धर्म राम नाटक क्लब के डायरेक्टर हरिओम गांधी, प्रधान मुरारीलाल ने बताया कि रामलीला मंचन नहीं हो रहा है। सिर्फ श्री रामायण पाठ रखाया जा रहा है जो दिन-रात जारी रहने के बाद अगले दिन भोग डालकर प्रसाद बांटा जाएगा।

इसी प्रकार दुर्गा पूजन व विजय दशमी शोभायात्रा व दशहरा उत्सव के आयोजनों को लेकर असमंजस का माहौल है। अभी तक सरकारी एसओपी के तहत मंजूरी मिलना तो दूर, कोई क्लियर कट पॉलिसी भी जारी नहीं हुई है।

आयोजकों का आरोप है कि एसओपी जारी करने में सरकारी लेटलतीफी के चलते रावण परिवार के पुतलों के निर्माण, बैंड-बाजे समेत शोभायात्राएं, नाटक मंडली, गायक आदि को लेकर बुकिंग कंफर्म नहीं हो रही। जैसे-जैसे समय कम रह रहा है, उक्त आयोजनों की उम्मीदें भी क्षीण होती जा रही हैं।

कोरोना काल में जिला प्रशासन की तरफ से रामलीला करने की परमिशन मिलने के बाद अधिकतर रामलीला कमेटियों ने इस साल रामलीला मंचन करने से मना कर दिया था। लेकिन फेज-1 के अंकुश क्लब की तरफ से इस बार भी रामलीला का आयोजन किया जा रहा है।

हर बार 10 दिन तक रामलीला का मंचन किया जाता है, लेकिन परमिशन लेट मिलने के चलते इस बार क्लब की तरफ से 6 दिन ही रामलीला का मंचन किया जाएगा। जिला प्रशासन की तरफ से विगत वीरवार 16 अक्टूबर को रामलीला कमेटियों को मंचन करने की परमिशन दी थी।

जिसके बाद कुछ कमेटियों ने रामलीला की परमिशन के लिए आवेदन किया था, लेकिन उसके बाद शुक्रवार, शनिवार और रविवार को छुट्टी होने के चलते ज्यादा एप्लीकेशन क्लियर नहीं हो पाई। जिले में अन्य जगह पर रामलीला होनी है या नहीं इसका खुलासा सोमवार को ही हो पाएगा।

प्रशासन की तरफ से रामलीला मंचन की परमिशन देने के बाद जिले की जो अन्य रामलीला कमेटियां अपने एरिया में रामलीला मंचन करना चाहती हैं वे सेक्टर-77 जिला प्रशासनिक परिसर में मौजूद एसडीएम दफ्तर में आकर रामलीला करवाने के लिए आवेदन पत्र दे सकती हैं। जिसके बाद एसडीएम की तरफ से उनकी एप्लीकेशन पर विचार करके परमिशन दी जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें