पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्टूडेंट्स ने सीएम से की कॉलेज खोलने की मांग:सीएम को लिखा लेटर- पंजाब में पांचवीं से बारहवीं तक स्कूल खुल सकते हैं तो कॉलेज क्यों नहीं ?

डेराबस्सी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में कॉलेज स्टूडेंट्स के एक तबके ने पंजाब सरकार से ऑनलाइन मोड के साथ-साथ व्यावहारिक तौर पर कक्षाएं शुरू करने की पुरजोर मांग की है। उनका कहना है कि बेहतर परीक्षा परिणाम के लिए कोविड-19 के एहतियाती उपायों के साथ शर्तों सहित यूनिवर्सिटीज समेत कॉलेज खोले जाएं।

स्टूडेंट्स समेत प्रबंधकों का कहना है कि जब पंजाब में 5वीं से बारहवीं तक सरकारी और प्राइवेट स्कूल खुल सकते हैं तो फिर सरकारी कॉलेज क्यों नहीं खोले जा सकते? उनका कहना है कि कौशल विकास और ज्ञान बढ़ोतरी के लिए प्रैक्टिकल वर्क और ग्रुप डिस्कशन भी बेहद जरूरी है जो ऑनलाइन स्टडी में संभव नहीं है।

स्टूडेंट्स ने उक्त आशय का पत्र पंजाब के सीएम को लिखा है जिसका कॉलेज प्रबंधकों ने भी अपनी शर्तों सहित समर्थन किया है। मुख्यमंत्री पंजाब को लिखे पत्र में पंजाब के ऑनलाइन स्टडी कॉलेजों के माध्यम से ऑनलाइन स्टडी कर रहे कई स्टूडेंट्स ने यूनिवर्सिटीज समेत कॉलेज खोलने की अपनी मांग को कई कारणों से तर्कसंगत बनाने की कोशिश भी की है। साथ ही कुछ सुझाव भी दिए हैं।

स्टूडेंट्स का कहना है कि स्कूल के 10 वर्ष से 17 वर्ष के स्टूडेंट्स की तुलना में कॉलेज के अमूमन 18 से 25 साल तक आयु वर्ग वाले यंगस्टर कोविड-19 जैसे गंभीर मसले की कहीं ज्यादा समझ रखते हैं। करियर बनाने में स्कूल की पढ़ाई से कहीं ज्यादा अहमियत यूनिवर्सिटी स्तरीय शिक्षा की है। इसलिए भी कॉलेजों का खुलना बेहतर भविष्य का परिचायक बनेगा। इसके अलावा परीक्षाओं से पहले कुछ समय के लिए कॉलेज खोलकर स्टूडेंट्स से अच्छे परीक्षा परिणाम की उम्मीद कहीं ज्यादा रहती है क्योंकि वार्षिक परीक्षा से पहले पूरे सिलेबस की रिवीजन के लिए फिजिकल अपीयरेंस बेहद जरुरी है।

स्टूडेंट्स ने दिए सुझाव

उनका कहना है कि कॉलेज खुलने पर हॉस्टल में रहने वालों के लिए दिक्कत जरूर रहेगी परंतु उन्हें कॉलेज कैंपस में ही कोविड टेस्ट के जरिए मेडिकल जांच के दायरे में लाया जा सकता है। संक्रमण पाए जाने पर अनिवार्य अवधि के लिए क्वॉरेंटाइन या आइसोलेट भी किया जा सकता है।

इसके अलावा कॉलेज में बाहर से खानपान की वस्तुओं का प्रवेश रोका जा सकता है। सोशल डिस्टेंसिंग के अलावा मास्क सैनिटाइजर समेत जरूरी एहतियाती उपाय भी अमल में लाए जा सकते हैं। कोई मेगा सेमिनार जैसे बड़े समारोहों की जगह कम एकत्रीकरण वाले सेमिनार आयोजित किए जा सकते हैं।

कॉलेज प्रबंधक भी सहमत

विद्याज्योति होटल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डीजे सिंह ने कॉलेज स्टुडेंट्स की मांग को वाजिब बताते हुए कहा कि होटल मैनेजमेंट की स्टडी तो प्रैक्टिकल नॉलेज पर ज्यादा निर्भर है। सुखमनी इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसीपल डॉ जीएन वर्मा के अनुसार सशर्त हिदायतों के साथ स्कूल की तर्ज पर कॉलेजों में पढ़ाई शुरु की जा सकती है। होस्टलर्स के लिए ज्यादा सावधानी बरतनी होगी।

मुख्य प्रशासक रशपाल सिंह के अनुसार कॉलेज खोलने के लिए प्रदेश सरकार चाहे मिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स की मंजूरी जरुरी है परंतु इसकी मांग प्रदेश सरकार द्वारा की जा सकती है। प्रिंसीपल प्रदीप शर्मा के अनुसार फुल फ्लेज कॉलेज न भी खोलना हो तो उसे वैकल्पिक दिनों में अलग अलग स्ट्रीम वाले स्टूडेंट्स के लिए खोला जा सकता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

    और पढ़ें