पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मोरनी:23 पंचायतों की 50 हजार की आबादी के लिए 6 बेड का अस्पताल पड़ रहा है कम

मोरनी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मोरनी खंड की 23 पंचायतों और यहां रहने वाले 50 हजार के लगभग लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे मोरनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अब पुराने टिन शेड के भवन को रेनेवोट कर नए वार्ड बनाने का कार्य अंतिम चरण में पहुंच गया है। पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा भवन को 20 लाख 95 हजार रुपए के बजट से रेनोवेट किया जा रहा है। 

जानकारी के अनुसार मोरनी पीएचसी में लोगों की मांग और आवश्यकता पर लोक निर्माण विभाग द्वारा पुराने टिन शेड के भवन को रेनोवेट कर उसमें नए वार्ड बनाने की दिशा में कार्य 22 मई को शुरू किया गया था, इस भवन को रेनोवेट करने का कार्य 3 महीने में पूर्ण किया जाएगा जो अगस्त महीने में पूरा हो जाएगा। पीएचसी को अगस्त महीने में नया रेनोवेट भवन मिल जाएगा। 

पीएचसी में इस समय मात्र 7 बेड, एक इमरजेंसी के लिए रिजर्व: मौजूदा समय में मोरनी पीएचसी के दो वार्डों में सिर्फ 6 ही बेड है। एक बेड इमरजेंसी के लिए रखा गया है। पर्यटन क्षेत्र होने के कारण मोरनी में सड़क दुर्घटनाओं के केस होते रहते है। ऐसे में मात्र 6 बेड काफी नहीं है। दूसरे यहां की 23 पंचायतों के 50 हजार लोगों की स्वास्थ्य सेवाएं भी पीएचसी पर निर्भर है।

गर्भवती महिलाओं को अलग से बेड की आवश्यकता होती है, लेकिन वार्ड और बेडों की कमी के कारण कई बार मेल-फिमेल एक ही वार्ड में दाखिल करना पड़ता है। जो मरीजों के लिए परेशानी भरा होता है। विभाग के जेई सुनील कुमार ने बताया कि नए वार्ड बनाने का कार्य 22 मई से कार्य शुरू कर दिया गया था, जो अब अंतिम चरण में है और अगस्त महीने में पूरा कर लिया जाएगा। लोगों ने मांग की कि आबादी के हिसाब से यहां पर बेड की संख्या कम से कम 30 की जानी चाहिए, ताकि इमरजेंसी में लोगों को इलाज के लिए भटकना न पड़े। 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें