फ्रॉड:बैंक में जाली दस्तावेज देकर दूसरे के नाम पर बनाया क्रेडिट कार्ड, निकाले 50 हजार

मोहाली3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • जीरकपुर का गुरप्रीत हुआ ठगी का शिकार, साइबर सेल मोहाली में दी फ्रॉड की शिकायत

साइबर ठगों के नए-नए पैतरें सामने आ रहे हैं। अब एक ऐसा मामला सामाने आया है जिसमें बैंक की मिलीभगत भी हो सकती है। क्यांेकि यह मामला क्रेडिट कार्ड के साथ जुड़ा हुआ है। जीरकपुर के पभात में रहने वाले एक गुरप्रीत नाम के शख्स ने आईसीआईसीआई बैंक के साथ-साथ संंबंधित पुलिस स्टेशन में उनके साथ हुुए 50 हजार रुपए के क्रेडिट कार्ड फ्रॉड की शिकायत दी है। यह कार्ड किस प्रकार से बनाया गया और कौन-कौन से दस्तावेज इसमें प्रयोग किए गए इसको लेकर अब साइबर सेल मोहाली जांच करेगी।

पीड़ित गुरप्रीत सिंह ने बताया कि जब उनके अकाउंट से 50 हजार कटे तो वह उक्त बैंक पता लगाने गए। वहां जाकर उनको पता चला कि उनके नाम का क्रेडिट कार्ड बना हुआ है और उसके लिए 50 हजार उनके अकाउंट से कट गए। पीड़ित ने बैंक को बताया कि उन्होंने कभी क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई ही नहीं किया तो उनके नाम का क्रेडिट कार्ड कैसे बन सकता है।

अब बैंक ने कार्ड नंबर 8001 के दस्तावेज चेक किए तो पाया कि आधे से ज्यादा डॉक्यूमेंट जाली हंै और यहां तक जो इन कागजात पर साइन किए गए हैं वे भी जाली हैं। इसको लेकर गुरप्रीत ने बैंक प्रबंधक को जांच और उनके कटे पैसे वापस देने के लिए शिकायत दी है। इसके साथ ही गुरप्रीत ने साइबर सेल मोहाली व जीरकपुर पुलिस को भी शिकायत दी है। ताकि यह पता चल सके कि इस पूरे गेम के पीछे कौन-कौन शामिल हैं। क्योंकि पीड़ित का आरोप है कि ऐसा कभी नहीं हाे सकता कि बैंक के किसी कर्मचारी की मिलीभुगत के बिना इतना बड़ा फ्राॅड को सके।

खबरें और भी हैं...