पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Mohali
  • Due To Strong Storm, The Roof Of The House Fell, Many Trees Were Uprooted Including The Root, There Was No Electricity For 18 Hours

मौसम अपडेट:तेज आंधी के चलते मकान की छत गिरी, जड़ समेत उखड़ गए कई पेड़, 18 घंटे तक नहीं आई बिजली

मोहाली22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फेज-7 चावला लाइट पॉइंट पर विशाल पेड़ गिर गया। - Dainik Bhaskar
फेज-7 चावला लाइट पॉइंट पर विशाल पेड़ गिर गया।
  • मकान की छत का मलबा गिरने से दो बच्चे हुए जख्मी, जीएमसीएच-32 में इलाज के बाद मिली छुट्‌टी

गत रात आए तेज तूफान के चलते शहर में कई जगह नुकसान हुआ। कहीं मकान की छत गिर गई और कहीं घरों की दीवारें। शहर के मुख्य मार्गों पर गिरे हुए विशाल पेड़ तेज आंधी और तूफान का सबूत दे रहे थे। तूफान शुरू होने के कुछ समय बाद ही गुल हुई बिजली की सप्लाई भी शहर के कई एरिया में 18 घंटे बीत जाने के बाद दुरुस्त नहीं हो पाई।

नगर निगम के मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्धू, डिप्टी मेयर कुलजीत सिंह बेदी और कमिश्नर डॉ. कमल कुमार गर्ग सुबह से ही रविवार छुट्टी वाले दिन सड़कों पर दिखाई दिए। जहां-जहां तूफान के चलते नुकसान हुआ था उसे कंट्रोल करने का प्रयास किया जा रहा था।

इस तूफान के कारण शहर में करीब एक दर्जन लोग घायल भी हुए हैं जिसमें कई लोगों के सर में गंभीर चोट भी आई है। रात को आंधी और तूफान के बीच ही घायल लोग अस्पतालों के चक्कर लगा रहे थे और अपना इलाज करवा रहे थे। मकान की छत गिरी नीचे सो रहे थे बच्चे: तेज आंधी और तूफान के चलते बलौंगी के आजाद नगर में एक दर्दनाक हादसा हुआ।

रात करीब 12:30 बजे जब तूफान अपने जोरों पर था उस समय एक मकान की छत पर साथ वाले मकान की करीब 8 फुट लंबी दीवार गिर गई। जिसके चलते उस मकान की छत टूट गई और सारा मलबा नीचे सो रहे बच्चों पर जाकर गिरा। गनीमत यह रही कि मकान में मौजूद अन्य पारिवारिक सदस्यों की तरफ से तुरंत बच्चों के ऊपर से मलबा हटाकर उन्हें बाहर निकाला।

लेकिन हादसे में बच्चों को काफी चोट आई थी। जिसके चलते उन्हें तुरंत इंडस्ट्रियल एरिया फेज 7 के ईएसआई अस्पताल में ले जाया गया। लेकिन वहां पर सुविधाओं की कमी होने के चलते बच्चों को तुरंत जीएमसीएच 32 में रेफर कर दिया गया। इस हादसे में 5 वर्षीय कासिम तथा 15 वर्षीय समरीन घायल हुई थी।

जब दोनों घायल बच्चों को परिवार ने इंडस्ट्रियल एरिया फेज-7 के ईएसआई अस्पताल में रात करीब 1:00 बजे पहुंचाया तो वहां पर मौजूद स्टाफ की तरफ से परिवारिक सदस्यों से कहा गया कि उनके पास एक्स-रे और सीटी स्कैन की सुविधा इस समय उपलब्ध नहीं है।

जिसके चलते उन्हें चंडीगढ़ के अस्पताल में रेफर किया गया। बच्चों के परिजनों ने बताया कि आधी रात को तेज तूफान के बीच वह लोग अपने बच्चों को चंडीगढ़ के जीएमसीएच 32 अस्पताल में लेकर गए। वहां बच्चों का इलाज किया गया। डॉक्टरों के अनुसार फिलहाल अभी दोनों बच्चे खतरे से बाहर हैं।

खबरें और भी हैं...