पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन को सचेत:मेयर ने गमाडा कोे शहर से जोड़ने वाले बलौंगी ब्रिज को डबल करने को लिखा

मोहालीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुल के निर्माण का सारा काम दोबारा से किया जाना चाहिए। - Dainik Bhaskar
पुल के निर्माण का सारा काम दोबारा से किया जाना चाहिए।
  • एंट्री पॉइंट पर बने इस ब्रिज की हालत हो चुकी है खराब, कई बार हो चुके हैं सड़क हादसे

शहर के एंट्री पॉइंट बलौंगी पुल की खराब हालत को लेकर अब नगर निगम की ओर से भी गमाडा के समक्ष यह मुद्दा उठाया गया है। नगर निगम के मेयर अमरजीत सिंह जीती सिद्धू की ओर से सीए गमाडा प्रदीप कुमार अग्रवाल को लेटर लिखते हुए कहा है कि शहर के साथ जोड़ने वाले बलौंगी पुल की हालत काफी ज्यादा खस्ता हो चुकी है और यहां पर कई सड़क हादसे भी हो रहे हैं।

इस इस पुल को डबल ब्रिज में तबदील किया जाना चाहिए और साथ ही इस पुल के निर्माण का सारा काम नए सिरे से किया जाना चाहिए। क्योंकि यह पुल कई साल पुराना बना हुआ है और अब पुल की हालत बहुत ज्यादा खस्ता भी हो चुकी है। हालांकि इस पुल को लेकर कई बार लोग भी मुद्दा उठा चुके हैं और पुल की मरम्मत करने की मांग कर चुके हैं।

लेकिन अब तक गमाडा की ओर से इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। यह पुल गमाडा के अंर्तगत आता है और यहां पर गमाडा की ओर से ही कार्रवाई की जानी है। इसलिए अब नगर निगम के मेयर की ओर से भी गमाडा के सीए को इस पुल को डबल ब्रिज बनाने के लिए लेटर लिखा है।

पुल के दोनों ओर है फोर लेन सड़क

मेयर जीती सिद्धू की ओर से गमाडा के सीए को लेटर लिखते हुए कहा गया है कि बलौंगी पुल के दोनों ओर फोर लेन सड़क है और बीच में एक सिंगल ब्रिज है। इसलिए यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को काफी ज्यादा परेशानी का सामना भी करना पड़ता है।

मेयर ने लेटर में गमाडा से कहा है कि लोगों की सुविधा को देखते हुए इस पुल को दोबारा से नए सिरे से बनाना चाहिए और और इसे सिंगल की जगह डबल ब्रिज बनाना चाहिए। ताकि यहां से रोजाना गुजरने वाले हजारों वाहन चालकों को राहत पहुंचाई जा सकें।

इंडस्ट्रियल एरिया होने के चलते गुजरते हैं हैवी कमर्शियल वाहन

बलौंगी ब्रिज के पास ही इंडस्ट्रियल एरिया होने के चलते तथा बलौंगी ब्रिज शहर का एंट्री पॉइंट होने के चलते रोजाना यहां से कई कमर्शियल वाहन गुजरते हैं। हैवी वाहन होने के चलते ब्रिज पर काफी ज्यादा लोड भी पढ़ता है। लेकिन पुल की हालत खस्ता होने के चलते यहां पर कोई बड़ा हादसा होने का भी खतरा बना बना हुआ है।

मेयर जीती सिद्धू की ओर से अपने लेटर में इस मुद्दे को भी उठाया गया है और कहा गया है कि कोई बड़ा हादसा होने से पहले गमाडा को इस पुल को लेकर कार्रवाई करनी चाहिए और इसका नए सिरे से निर्माण किया जाना चाहिए। इस पुल की करीब 10 साल पहले मरम्मत की गई थी उसके बाद किसी की ओर से कोई ध्यान नहीं दिया गया। जिस कारण यह पूरा पुल टूट गया लेकिन शहर में आने वाले लोगों का एक बड़ा हिस्सा इसी मार्ग से होकर गुजरता है इसलिए इस पुल को डबल करने के साथ-साथ सुंदर भी बनाया जाए।

लोग खुद करते रहे हैं पुल की सफाई

बलौंगी पुल की हालत खराब होने के साथ वहां पर गंदगी फैली होने के चलते परेशान लोगों की ओर से खुद पुल की साफ-सफाई का काम किया जाता रहा है। बलौंगी के समाज सेवी बीसी प्रेमी की ओर से अपने साथियों के साथ कई बार इस पुल की खस्ताहाल तथा टूटी हुई सड़क पर मिट्टी तथा गटका डाला है ताकि यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को थोड़ी राहत पहुंचाई जा सके। लेकिन यह टेंपरेरी काम हाेता है इसलिए यह ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाता है। बरसात आने के साथ ही सड़क के गड्‌ढों में से सारी मिट्टी तथा गटका निकल कर बिखर जाता है।

बरसात के दिनों में पुल पर भरता है पानी

बलौंगी पुल पर बरसाती पानी की निकासी का भी प्रबंध नहीं है। पुल की साफ-सफाई ना होने के चलते पुल पर बरसाती पानी निकालने के लिए जो नालियां बनाई गई हैं वो भी ब्लॉक हो चुकी हैं। जिसके चलते बरसात के दिनों में पुल पर भारी मात्रा में बरसाती पानी खड़ा होता है जिसके चलते यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

इसको लेकर डिप्टी मेयर कुलजीत सिंह बेदी ने कहा कि बरसात के दिनों में यहां से गुजरने वाले टू-व्हीलर वाहन चालकों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के मेयर की ओर से गमाडा को लिखा गया है और कार्रवाई की उम्मीद की जा रही है।

खबरें और भी हैं...